Bihar Panchami: आज मनाया जा रहा है श्री बांके बिहारी का प्रकाट्य उत्सव, देखें खूबसूरत झलकियां

punjabkesari.in Monday, Nov 28, 2022 - 10:52 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Bihar Panchami 2022: वृंदावन में आज ललिता सखी के अवतार सब के लाडले ठाकुर श्री बांके बिहारी जी का प्राकट्योत्सव बिहार पंचमी के रूप में मनाया जा रहा है।

PunjabKesari Bihar Panchami

वैसे तो बिहार पंचमी का उत्सव बहुत सारे स्थानों पर मनाया जाता है लेकिन इसकी सबसे अधिक धूम बांके बिहारी जी के प्राकट्य स्थान निधिवन और वृंदावन के श्री बांके बिहारी मंदिर में रहती है। बिहार पंचमी के पर्व को दिवाली की तरह बड़े ही जोरों-शोरों के साथ मनाया जाता है। 

PunjabKesari Bihar Panchami

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

PunjabKesari Bihar Panchami

श्री बांके बिहारी मंदिर के सेवा अधिकारी राजू गोस्वामी जी, जो भक्त आॉफ बिहारी जी ग्रुप के प्रधान सदस्य हैं। वह इस ग्रुप के साथ सुबह 4  बजे निधिवन में पहुंचे। ठाकुर जी को पीतांबर धारी भी कहा जाता है क्योंकि उन्हें पीला रंग अत्यधिक प्रिय है।

PunjabKesari Bihar Panchami

इसी बात को ध्यान में रखते हुए भक्त आॉफ बिहारी जी ग्रुप के सदस्य कपिल दूआ जी (लुधियाना में होजरी मिल चलाते हैं) ने पीले रंग के टी शर्ट सारे ग्रुप में वितरित किए। जोकि एक ड्रेस कोड के रूप में इस टी शर्ट को पहनकर बिहारी जी के जन्मोत्सव में शामिल हुए। सभी भक्तों ने निधिवन में दीप माला की, रंगोली बनाई, गुब्बारे लगाए और पम्फ्लेट्स लगाए।

PunjabKesari Bihar Panchami

बड़े पैमाने पर पटाखे फोड़े गए और आतिशबाजी चलाकर अंधेरी रात में उजाला किया गया। भक्तों ने हरि नाम संकीर्तन का खूब आनंद लिया। 

PunjabKesari Bihar Panchami

ब्रज की लोक किवदंती के अनुसार संवत 1600 में मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर जब बिहारी जी का प्राकट्य हुआ था। उस समय चारों और प्रकाश छा गया था। जब श्यामाश्याम प्रकट हुए तो उनके रूप माधुरी को देख कर स्वामी हरिदास विस्मय विमुग्ध हो गए थे।

PunjabKesari Bihar Panchami

वे अपनी सुधबुध खो बैठे थे। स्वामी हरिदास जी को लगा उनके इष्ट का अपूर्व सौंदर्य का दर्शन लोकमानस से सहन नहीं होगा। उन्होंने दोनों को एक ही रूप में आ जाने की प्रार्थना की। राधा माधव उनकी गोद में विराजमान हो गए।

PunjabKesari Bihar Panchami

स्वामी हरिदास ने दोनों को आलिंगन में बांधकर एक-दूसरे के समीप लाना शुरू किया और अंत में दोनों एक रूप में समाहित हो गए। वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर में आज ये स्वरुप विराजित है।

PunjabKesari Bihar Panchami

भक्त आॉफ बिहारी जी ग्रुप निधिवन में उत्सव मानाने के उपरांत भक्त बिहारी जी के मंदिर में जाएंगे। वहां जाकर अपने लाडले को जन्मदिवस की बधाई देंगे और दीप दान करेंगे। 

PunjabKesari Bihar Panchami

आज के दिन सुन्दर शोभा यात्रा का भी आयोजन होगा। जिसमें स्वामी श्री हरिदास जी महाराज चांदी के रथ पर सवार होकर भक्तों से मिलने जाएंगे। उनके साथ सारे भक्त सोहनी सेवा करते, नाचते-गाते, रंगोली बनाते और साथ ही साथ जयकारे लगाते हुए बांके बिहारी जी के मंदिर जाएंगे और उनको प्राकट्योत्सव की बधाई देंगे।

PunjabKesari Bihar Panchami


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News