60 साल बाद बन रहा है खरीदारी का महामुहूर्त,  आप भी घर ले आएं खुशियां!

punjabkesari.in Saturday, Oct 23, 2021 - 01:55 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
दिवाली और धनतेरस से पहले 28 अक्टूबर को खरीदारी के लिए बेहद शुभ महामुहूर्त बनने जा रहा है। करीब 6 दशकों यानि 60 साल के बाद मकर राशि में न्याय के देवता शनि और देव गुरु बृहस्पति के कंबीनेशन में गुरु पुष्य नक्षत्र का आगमन बेहद मंगलकारी रहने वाला है। जो लोग दिवाली और धनतेरस से पहले नई चीजों की  खरीदारी करना चाहते हैं,  उन्हें इस महामुहूर्त का भरपूर फायदा उठाना चाहिए क्योंकि ऐसे मौके बार-बार नहीं आते और ज्योतिष में ऐसे महामुहूर्त के लिए फिर बरसो इंतजार करना पड़ता है। ग्रह गोचर में पुष्य नक्षत्र के स्वामी और उपस्वामी की युति लगभग 60 साल बाद बन रही है। इससे पहले साल 1961 में ये दुर्लभ संयोग बना था।

ज्योतिष शास्त्र में पुष्य नक्षत्र को सभी नक्षत्रों का राजा माना जाता है। हिंदू धर्म में पुष्य नक्षत्र पर किसी नए काम या व्यापार की शुरुआत करना बेहद शुभ माना जाता है। इस नक्षत्र पर शनि और गुरु की विशेष कृपा होती है. शनि शक्ति और ऊर्जा के स्वामी माने जाते हैं, जबकि गुरु ज्ञान और धन के कारक होते हैं।  गुरुवार, 28 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र के दिन शनि और गुरु दोनों एकसाथ मकर राशि में विराजमान रहेंगे।  इस दौरान नई वस्तुओं की खरीदारी करने से घर में शुभता बढ़ेगी।

वैसे भी हमारे देश में  दीपावली और धनतेरस जैसे त्योहारों पर खरीदारी की पुरानी परंपरा है। लोग इस अवसर पर जमकर खरीदारी करते हैं। गहनें, नए वाहन और नए फ्लैट खरीदने के लिए भी इन्हीं दिनों का इंतजार करते हैं। 28 अक्टूबर को मकर राशि में शनि-गुरु की युति में पुष्य नक्षत्र की शुभता को बल मिलेगा. इस दिन सुबह 6:33 से 9:42 तक सर्वार्थसिद्धि योग भी बनेगा. इस दौरान नई चीजों की खरीदारी करना बेहद शुभ साबित होगा।

मकर राशि में शनि-गुरु की इस युति पुष्य नक्षत्र इस दिन होने का व्यापार, उद्योग और कार्यक्षेत्र में अच्छा असर देखा जा सकता है। ऐसे में बीमा पॉलिसी, वाहन, विभिन्न प्रकार की योजनाओं में निवेश, लोहा, सीमेंट, ऑयल कंपनी, कपड़ा, लकड़ी और इलेक्ट्रानिक्स से जुड़ी क्षेत्र में निवेश या खर्च करने से लाभ मिलेगा। वहीं दूसरी ओर बृहस्पति की अनुकंपा से शिक्षा और मेडिकल साइंस जैसे क्षेत्रों में सफलता मिल सकती है।

शनि-गुरु की युति से बने गुरु पुष्य नक्षत्र में घर, जमीन सोने चांदी के गहने या सिक्के, टू व्हीलर या फोर व्हीलर, इलेक्ट्रानिक्स आइटम्स, लकड़ी या लोहे का फर्नीचर, कृषि से जुड़ा सामान, पानी या बोरिंग की मोटर, बीमा पॉलीसी, म्यूचल फंड या शेयर मार्केट में निवेश करने से लाभ की प्राप्ति हो सकती है।

इस दिन अगर आप आप नए बहीखाते या कलम-दवात खरीदें तो भी काम-काज में शुभता बढ़ेगी. बहीखाते या कलम-दवात खरीदने के बाद इनकी विधिवत पूजा करें. आप चाहें तो धार्मिक पुस्तकों की भी खरीदारी कर सकते हैं। 

गुरमीत बेदी 
gurmitbedi@gmail.com


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News