ज्योतिष एक संपूर्ण विज्ञान, विश्वसनीय बनाने की जरूरत : दत्तात्रेय

punjabkesari.in Saturday, May 21, 2022 - 08:07 PM (IST)

चंडीगढ़,(पांडेय): हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि ज्योतिष एक संपूर्ण विज्ञान है। अंतरिक्ष व ग्रहों की खोज में ज्यातिष विज्ञान का प्रयोगशाला के रूप में प्रयोग हुआ है। ज्योतिष अध्ययन से ग्रह नक्षत्र, तिथि, वार व भविष्य की घटनाओं का पता लगाया जाता है। वह आज स्थानीय होटल में ज्योतिष प्रांगण संस्था द्वारा आयोजित ऊर्जा-2022 सैमीनार में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि ज्योतिष वेद के छह अंगों में से एक है। ज्योतिष विज्ञान में गणित विज्ञान, गृह नक्षत्र, तिथि, वार, योग और कर्म का अध्ययन कर भविष्य की घटनाओं पर अपने मत दिए जा सकते है। 

 


इनको और आधुनिक और विश्वसनीय बनाने की आवश्यकता है। पिछले कुछ वर्षों में ज्योतिष और वास्तुशात्र की विद्या में कमी आ रही थी परंतु अब ज्योतिष क्षेत्र में काम कर रहे ज्यातिषाचार्यों की मेहनत से युवा पीढ़ी का इस प्राचीन शिक्षा की ओर ध्यान आकॢषत हुआ है।
राज्यपाल ने कहा कि हस्तरेखा ज्ञान, फेस रीङ्क्षडग तथा व्यक्ति की प्रकृति की जानकारी के आधार पर उसके बारे में अनुमान लगाया जा सकता है। परंतु इसके लिए कड़ी मेहनत, गहन अध्ययन और तप की आवश्यकता है। पर्यावरणीय दबाव, ग्रहों की गति तथा सौरमंडलीय हलचल इत्यादि की जानकारी के आधार पर आज वैज्ञानिक सूर्य ग्रहण, चंद्र ग्रहण, बारिश की स्थिति तथा ऋतु परिवर्तन का अनुमान लगाते है, जो कि काफी सटीक भी होता है। उन्होंने कहा कि आज देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है।

 

हमें गर्व है कि हमारी संस्कृति भागवत्, ज्योतिष व वास्तु शास्त्र पर विदेशों में शोद्य हो रहे है। भारत ने शून्य की खोज कर साबित कर दिया है कि हमारी वैदिक शिक्षा पूरी तरह प्रमाणिक है।
इस कार्यक्रम में उन्होंने ज्योतिष क्षेत्र से जुड़े ज्योतिषाचार्यों को सम्मानित किया। जिनमें मुख्य रूप से ज्योतिष परागण की अध्यक्षा ज्योतिषाचार्य  पूनम शर्मा, ज्योतिषाचार्य अजय भामी, लेखराज, शालिनी मुंझाल व अन्य लोग शामिल रहे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Ajay Chandigarh

Related News

Recommended News