RBI ने दिया ग्राहकों को झटका, ATM इंटरचेंज फीस में की बढ़ौतरी

6/11/2021 12:56:59 PM

बिजनेस डेस्कः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गुरुवार को करीब 9 साल के बाद एटीएम लेन-देन के लिए इंटरचेंज शुल्क को बढ़ाने की अनुमति दे दी। अब एटीएम से तय मुफ्त सीमा से अधिक बार पैसा निकालने पर अगले साल से ज्यादा शुल्क देना होगा। इसके तहत बैंक ग्राहक एक जनवरी, 2022 से अगर मुफ्त निकासी या अन्य सुविधाओं की स्वीकार्य सीमा से ज्यादा बार लेन-देन करते हैं, तो उन्हें प्रति लेन-देन 21 रुपए देने होंगे जो अभी 20 रुपए हैं। 
 
आरबीआई ने एक परिपत्र में कहा, "बैंकों को दूसरे बैंकों के एटीएम में कार्ड के उपयोग के एवज में लगने वाले शुल्क (इंटरचेंज फी) की क्षतिपूर्ति और अन्य लागत में बढ़ोतरी को देखते हुए उन्हें प्रति लेने-देन ग्राहक शुल्क बढ़ाकर 21 रुपए करने की अनुमति दी गई है। बढ़ा हुआ शुल्क एक जनवरी, 2022 से प्रभाव में आएगा।"

हालांकि ग्राहक पहले की तरह अपने बैंक के एटीएम से हर महीने 5 मुफ्त लेन-देन (वित्तीय और गैर-वित्तीय लेन-देन) के लिए पात्र होंगे। वे महानगर में अन्य बैंकों के एटीएम से 3 बार और छोटे शहरों में 5 बार मुफ्त लेन-देन कर सकेंगे। परिपत्र के अनुसार, साथ ही एक अगस्त, 2021 से प्रति वित्तीय लेन-देन ‘इंटरचेंज शुल्क’ 15 रुपए से बढ़ाकर 17 रुपए तथा गैर-वित्तीय लेन-देन के मामले में 5 रुपए से बढ़ाकर 6 रुपए करने की अनुमति दी गई है।

बैंक अपने ग्राहकों की सुविधा के लिए एटीएम लगाते हैं। साथ ही दूसरे बैंकों के ग्राहकों को भी इसके जरिये सेवाएं दी जाती हैं। निर्धारित सीमा से अधिक उपयोग के एवज में वे शुल्क लेते हैं जिसे इंटरचेंज फी कहते हैं। आरबीआई ने कहा कि एटीएम लगाने की बढ़ती लागत और एटीएम परिचालकों के रखरखाव के खर्च में वृद्धि को देखते हुए शुल्क बढ़ाने की अनुमति दी गई है। इसमें संबंधित इकाइयों और ग्राहकों की सुविधाओं के बीच संतुलन की जरूरत को ध्यान रखा गया है।


Content Writer

jyoti choudhary

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static