बाइडेन की जीत के बाद भी क्या ताईवान चीन से ‘सप्लाई चेन’ हटाएगा

2020-11-18T03:59:06.11

अमरीकी चुनावों में बाइडेन को मिली जीत के बावजूद ताईवान चीन से अपनी सप्लाई चेन हटाने के फैसले को नहीं बदलेगा। ताईवान की कई कम्पनियों ने कहा है कि वे अपनी सारी सप्लाई चेन साम्यवादी चीन से हटाएंगी। हालांकि अमरीकी चुनावों के कारण अभी तक इन कंपनियों ने सप्लाई चेन को चीन से हटाने पर काम नहीं किया था, ताईवान की कम्प्यूटर बनाने वाली कंपनी क्वांट कम्प्यूटर्स इंक ने बताया कि इस मुद्दे पर वर्ष 2018 से बात चल रही है जब से अमरीका-चीन व्यापार संघर्ष शुरु हुआ है। 

अगले पांच से दस वर्षों में सप्लाई चेन को कई दूसरी जगहों पर ले जाया जाएगा-इसमें वियतनाम, इंडोनेशिया जैसे देश शामिल हैं। क्वांट कंप्यूटर्स ने बताया कि ग्राहकों की मांग के आधार पर फैक्ट्रियों को दूसरी जगहों पर ले जाया जाएगा। कंपनी की तरफ से आगे बताया गया कि चीन से सप्लाई चेन को बाहर ले जाते समय हर बात का ध्यान रखा जाएगा जिससे कंपनी की साख को कोई नुक्सान न पहुंचे। ठीक ऐसा ही फैसला ताईवान की बड़ी इलैक्ट्रॉनिक कंपनी ‘एसर इंक’ ने भी लिया है। वह भी चीन से बाहर अपनी सप्लाई चेन स्थापित करने के लिए जगह ढूंढ रही है और इसके लिए वह अपने सांझेदारों के साथ बातचीत के दौर में भी है। 

ऐप्पल इंक की सप्लायर विस्ट्रॉन कॉर्पोरेशन का भी यही विचार है, कंपनी बाजार की मांग को देखते हुए अपना अगला कदम उठाएगी लेकिन इतना तय है कि विस्ट्रॉन भी चीन से बाहर जाएगी। विस्ट्रॉन ने बताया कि वे पहले से ही अपने सप्लाई चेन की जगह बदलने पर काम कर रही है चीन और चीन के आसपास के क्षेत्रों और उसके बाहर के क्षेत्रों के बारे में। साथ ही विस्ट्रॉन ने ताईवान में अपना निवेश भी बढ़ा दिया है। 

इसके अलावा दुनिया की सबसे बड़ी कॉन्ट्रैक्ट चिप बनाने वाली कंपनी, ताईवान सैमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग कंपनी ने इस वर्ष मई में घोषणा की थी कि वह अपनी फैक्टरी अमरीका के एरिजोना प्रांत में लगाएगी। साथ ही कंपनी ने ये भी साफ किया कि इस स्थानांतरण का कोई राजनीतिक कारण नहीं है। कंपनी ने यह बात साफ की है कि उसे अमरीका में अपना प्लांट लगाने के लिए अमरीकी प्रशासन से सबसिडी की बाकी शर्र्तें पूरी करनी चहिएं। फार्मोसा पैट्रोकैमिकल कॉर्प. ने भी चीन से हटने का मन बना लिया है, कम्पनी की तरफ से यह बात बताई गई है कि अगर वुहान में कोरोना वायरस का कहर नहीं बरपा होता तो यह काम बहुत पहले ही कर लिया होता, लुसियाना प्रांत में कंपनी 9.4 अरब अमरीकी डॉलर प्लांट बनवा रही है। 

पैट्रोकैमिकल कॉर्प. के अध्यक्ष छन ने बताया कि बाइडेन पर्यावरण के मुद्दे और पारिस्थितिकी पर बहुत ध्यान देने वाले व्यक्ति हैं और वे बड़े पैमाने पर शेल तेल और गैस निकालने को ज्यादा बढ़ावा नहीं देने वाले, लेकिन पहले से चली आ रही अमरीकी नीतियों में अचानक कोई बड़ा बदलाव नहीं करेंगे और न ही अंतर्राष्ट्रीय तेल के दामों में बाइडेन की ऊर्जा नीति से कोई बड़ा बदलाव आएगा। इलैक्ट्रॉनिक्स कम्पनियों के अलावा ताईवान की जिन टैक्सटाइल कंपनियों ने चीन में अपनी सप्लाई चेन बना रखी थी वह भी चीन से हटने का मन बना चुकी हैं। ऐसी ही एक बड़ी टैक्सटाइल कंपनी माकालोट इंडस्ट्रियल कंपनी और एक्लाट टैक्सटाइल कंपनी ने बताया कि अब न तो वे किसी एक जगह पर अपनी पूरी सप्लाई चेन रखने के पक्ष में हैं बल्कि अब वो वैश्विक बाजार को देखते हुए अपना फैलाव दुनिया के दूसरे देशों में भी करेगी। 

एक्लाट टैक्सटाइल कंपनी के अनुसार कोविड महामारी के बाद ई-कॉमर्स का बाजार विस्तृत रूप में फैलेगा लेकिन नवोन्मेषण के रूप में वहीं भारी पैमाने पर ऑर्डरों में कमी आएगी। यानी बाजार में विविधता से भरे सामानों की बिक्री तो बढ़ेगी लेकिन एक ही सामान की बड़ी मात्रा में मांग में कमी आएगी। इसलिए कम्पनी ने तय किया है कि विविधता भरे बाजार की मांग को देखते हुए वह अपनी भविष्य की योजना बनाएगी। लेकिन इतना तय है कि अब कम्पनी चीन में विनिर्माण का काम खत्म करेगी। 

माकालोट इंडस्ट्रीज के मुताबिक सप्लाई चेन के चीन से हटने का सीधा फायदा दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों को मिलेगा, कंपनी का मुख्य विनिर्माण केन्द्र दक्षिण-पूर्वी एशिया में पहले से ही है और उन्होंने अपनी प्रोड्क्शन लाइन के काम में बढ़ौतरी के लिए फैलाव का काम वियतनाम, इंडोनेशिया समेत तीन और देशों में शुरू कर दिया है। कंपनी का अनुमान है कि दक्षिण-पूर्वी एशिया में प्रोड्क्शन के काम में बीस से तीस प्रतिशत बढ़ौतरी होगी। इसके अलावा कंपनी अभी क्षेत्र में छठे देश में अपने काम के फैलाव पर भी विचार कर रही है। 

मैरीन कम्पनी यांग मिंग ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन भी चीन से खुद को हटाकर दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों में अपना आधार तैयार कर रही है और कॉर्पोरेशन को इस बात का पूरा भरोसा है कि आने वाले समय में दक्षिण-पूर्वी एशिया अपनी गुणवत्ता और कम लागत के कारण क्षेत्रीय बाजार के विनिर्माण का केन्द्र बनेगा। कम्पनी भी इस दिशा में काम कर रही है। हार्वर्ड कैनेडी स्कूल के पूर्व विभागाध्यक्ष वेनची यू ने कहा कि कोरोना महामारी की विषमताओं को देखते हुए बाइडेन सरकार का मुख्य फोकस सप्लाई चेन की निरंतरता को बनाने में रहेगा और इसे देखते हुए बाइडेन सरकार ताईवान के साथ गहनता से व्यापारिक रिश्तों को मजबूत बनाएगी।


Pardeep

Related News