‘सतर्क रहें’ कोई आपसे ओ.टी.पी. तो नहीं मांग रहा

5/24/2021 5:40:15 AM

इंटरनैट और मोबाइल की मदद से सोशल मीडिया ने सारी दुनिया को एक-दूसरे के बहुत निकट ला दिया है। पल-पल की जानकारी आप अपने परिचितों और दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं परंतु हाल के दिनों में अकाऊंट्स हैक होने की घटनाओं में बहुत तेजी से वृद्धि हुई है। 

हाल ही में एयर इंडिया समेत दुनिया की कई एयरलाइंस क पनियों पर एक बड़ा साइबर अटैक हुआ जिसमें एयर इंडिया के ही 45 लाख यूजर्स का डाटा लीक हो गया और 26 अगस्त, 2011 से 3 फरवरी, 2021 के बीच लगभग 10 वर्षों की अवधि में पंजीकृत एयर इंडिया के यात्रियों का संपूर्ण व्यक्तिगत डाटाबेस हैक कर लिया गया। एयर इंडिया के अनुसार यात्रियों की व्यक्तिगत जानकारी को संभाल कर रखने वाली यात्री सेवा प्रणाली का ‘एस.आई.टी.ए. पी.एस.एस.’ डाटा प्रोसैसर साइबर हमले की चपेट में आ गया। 

एयर इंडिया के यात्रियों के नाम, जन्मतिथि, संपर्क जानकारी, पासपोर्ट की जानकारी, टिकट की जानकारी, स्टार एलायंस और एयर इंडिया के फ्रीक्वैंट लायर डाटा जैसे व्यक्तिगत डाटा लीक हो गए हैं। यहां तक कि प्रभावित यूजर्स के क्रैडिट व डैबिट कार्ड की जानकारी भी लीक हुई है परंतु उनके कार्ड के सी.वी.वी./सी.वी.सी. कोड सुरक्षित हैं क्योंकि इन्हें स्टोर नहीं किया गया था। साथ ही कोई पासवर्ड डाटा भी लीक नहीं हुआ है। 

एयर इंडिया के यूजर्स को हिदायत दी गई है कि वे तुरंत अपने सभी अकाऊंट पासवर्ड बदल लें। इसमें इंटरनैट बैंकिंग और डैबिट या क्रैडिट कार्ड पिन के पासवर्ड भी शामिल हैं। अब तो आम हो या खास, सोशल मीडिया अकाऊंट्स भी आसानी से हैक किए जाने लगे हैं। गत वर्ष ही अमरीका में जो बाइडेन, बराक ओबामा और बिल गेट्स तक के ट्विटर अकाऊंट्स हैक किए जाने की खबर आई थी। 

यूं तो सोशल मीडिया प्लेटफॉ र्स सुरक्षा के कई फीचर उपलब्ध करवाते हैं लेकिन साइबर सिक्योरिटी की जानकारी रखने वालों का मानना है कि हैकिंग के लिए किसी अकाऊंट से जुड़ी बहुत कम सूचना ही काफी हो सकती है। मसलन, जिसका अकाऊंट हैक करना है, अगर हैकर के पास उसका मोबाइल फोन न बर हो तो हैंकिंग बहुत आसान हो जाती है। मोबाइल न बर की मदद से ही हो रही एक हैकिंग इन दिनों सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाले चैटिंग एप व्हाट्सएप के यूजर्स के साथ देखने को मिल रही है। व्हाट्सएप की ओर से ओ.टी.पी. भेजने के तरीके का इस्तेमाल करके नया स्कैम साइबर क्रिमिनलों द्वारा शुरू किया गया है जहां वे लोगों से उनके न बर पर एस.एम.एस. के रूप में आए ओ.टी.पी. को उन्हें फारवर्ड करने को कहते हैं। 

बेशक किसी अन्जान को तो आप ओ.टी.पी. बताने से रहे पर उस स्थिति में क्या जब आपको अपने किसी परिवार वाले या परिचित की ओर से व्हाट्सएप पर मैसेज आता है कि ‘सॉरी गलती से मैंने आपके न बर पर एक ओ.टी.पी. भेज दिया है, प्लीज वह मुझे फारवर्ड कर दें’। अगर आप उन्हें फोन करके इस बारे पूछने की कोशिश करेंगे तो उनका फोन इंगेज आएगा। दरअसल, जिस परिवार वाले या परिचित की ओर से आपसे ओ.टी.पी. मांगने वाला व्हाट्सएप मैसेज आया होगा, उसका अकाऊंट पहले ही हैक हो चुका होगा। जैसे ही आप ओ.टी.पी. उन्हें भेजते हैं, आपका भी अकाऊंट हैक हो जाएगा और आपके फोन पर व्हाट्सएप बंद हो जाएगा। 

हालांकि, आपको इस हालत में शांत रहने की जरूरत है क्योंकि हैक करने वाला आपके मैसेज नहीं देख सकता परंतु आपके व्हाट्सएप अकाऊंट के सारे कांटैक्ट्स और न बर हैकर की पहुंच में आ जाएंगे और वे आपके परिचितों के व्हाट्सएप को भी इसी तरह से हैक करने की कोशिश करेंगे। 

अब सवाल उठता है कि ऐसा होने की सूरत में क्या किया जा सकता है। सबसे पहले तो अपने व्हॉट्सएप को ‘रीसैट’ करने की कोशिश करें। आपको तुरंत व्हाट्सएप सपोर्ट की आई.डी. Suporrt@whatsapp.com ष्शद्व पर एक ई-मेल करनी होगी कि मेरा फोन हैक हो गया है, उसे रोक दें और आपको नया कोड भेज कर अकाऊंट को फिर शुरू करें। वहां से कोड आने पर आप उसकी मदद से अपने अकाऊंट को फिर से हासिल कर सकते हैं। 

दूसरा जरूरी काम है कि अपने दोस्तों से आपको सभी व्हाट्सएप ग्रुप्स से निकालने को कहें। ऐसा करने से हैकर अब आपके ग्रुप्स के मैसेज नहीं देख सकेगा और न ही वहां कोई मैसेज भेज सकेगा। अपने दोस्त को यह हिदायत अवश्य दें कि वह ग्रुप में यह मैसेज न डाले कि आपका व्हाट्सएप हैक हो गया है क्योंकि ऐसा होने पर हैकर इस तरह का मैसेज डालने वाले को ही तुरंत ग्रुप से निकाल सकता है ताकि अन्यों को इसके बारे में पता न चल सके। ध्यान रखें कि स्कैम करने वाले आपके रिश्तेदार या परिचित बन कर ही आपसे लूट करते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि जिस नाम से मदद मांगी जा रही हो उसे किसी दूसरे न बर से कॉल कर लें और किसी भी ओ.टी.पी. को किसी भी हालत में किसी से शेयर न करें। 

हालांकि व्हाट्सएप हैकिंग अभी शायद उस स्तर पर नहीं पहुंचेगी जिससे वह आपकी बातें पढ़ सकें परंतु बचाव के तौर पर यह अच्छा होगा कि आप अपनी बैंक डिटेल्स, पासवर्ड तथा पासपोर्ट की डिटेल व्हाट्सएप पर ‘सेव’ न करें। इसे नोट्स या फाइल्स में सेव करें। इसके अलावा दोहरी सुरक्षा प्रणाली का इस्तेमाल करें जिसमें ओ.टी.पी. ही नहीं आपको अपना गोपनीय पासवर्ड भी डालना होगा जिससे हैकर को आप के अकाऊंट को हैक करना भी मुश्किल हो जाएगा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static