''लालू परिवार'' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़

Wednesday, March 15, 2017 4:26 PM
''लालू परिवार'' हुआ रघुवंश से नाराज, राबड़ी ने बयान को बोला फूहड़

पटना: बिहार में सत्तारूढ़ महागठबंधन के सबसे बड़े घटक राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा. रघुवंश प्रसाद सिंह की ओर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ दिए गए बयान पर पहली बार पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के परिवार की ओर से नाराजगी जाहिर की गई है। सिंह के ताजा बयान पर राजद प्रमुख की पत्नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने नाराजगी जाहिर करते हुए उनके बयान को फूहड़ बताया और कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता को महागठबंधन के खिलाफ ऐसा बयान नहीं देने चाहिए। वहीं यादव के छोटे पुत्र तथा उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि यदि आगे भी डा. सिंह ऐसा बयान देते हैं तो वह राजद प्रमुख से उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग करेंगे।  

राबड़ी देवी ने जनता दल यूनाइटेड (जदयू) नेताओं को भी बयानबाजी न करने की सलाह देते हुए कहा कि ऐसे बयानों से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को ही लाभ मिलेगा । उन्होंने कहा कि महागठबंधन की एकता के कारण ही आज बिहार में भाजपा सत्ता से बाहर है। राजनीति-रघुवंश नाराजगी दो अंतिम पटना  पूर्व मुयमंत्री ने कहा कि श्री सुशील कुमार मोदी और श्री मंगल पांडेय जैसे भाजपा नेताओं को सत्ता से बाहर रहने की पीड़ा है। उन्होंने कहा कि राजद, जदयू और कांग्रेस का महागठबंधन मजबूत है जो किसी भी कीमत पर नहीं टूटेगा।  

गौरतलब है कि जदयू प्रवक्ता संजय सिंह और वरीय नेता श्याम रजक के बयान पर डा.रघुवंश प्रसाद सिंह ने मंगलवार को कहा था कि वह पार्टी के सिपाही हैं और उन्हें सेनापति के आदेश का इंतजार है। सेनापति का आदेश मिले तो वह उनका (जदयू) गरदा झाड़ देंगे । उन्होंने कहा था कि नीतीश कुमार ने गाली देने के लिए संजय सिंह को पार्टी का प्रवक्ता बनाया है। उन्होंने  इससे पहले भी मुख्यमंत्री पर सीधा हमला करते हुए उत्तर प्रदेश में भाजपा विरोधी दलों की हार के लिए नीतीश कुमार को जिम्मेवार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि उत्तरप्रदेश चुनाव में कुमार ने मौन रह कर और केंद्र की नोटबंदी अभियान का समर्थन कर महागठबंधन धर्म का पालन नहीं किया बल्कि भाजपा का समर्थन किया जिसके कारण वहां भाजपा की अपार जीत हुई ।


इस बीच जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और विधानसभा में दल के उप नेता श्याम रजक ने कहा कि डा.रघुवंश प्रसाद सिंह को राजद से तुरंत बाहर किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि डा. सिंह  स्तरहीन शब्दों से जदयू के नेताओं का उपहास उड़ा रहे हैं । उनके इस स्तरहीन वक्तव्य से जदयू मर्माहत है और यह कहीं गुस्से का रूप न धारण कर ले इससे पहले ही राजद शीघ्रता से सिंह को दल से बाहर करने का निर्णय करे। रजक ने कहा कि अब सिंह की ज्यादती बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जिस तरह शिशुपाल को सौ गालियां माफ थीं और एक सौ के बाद गाली देने के बाद कृष्ण ने उसका वध कर दिया था, वैसे ही डा.सिंह की भी सौ गालियां हो चुकीं अब तो लालू प्रसाद यादव को उनपर कार्रवाई करनी चाहिए। 

उधर महागठबंधन में शामिल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और राज्य के शिक्षा मंत्री डा.अशोक चौधरी ने कहा कि नीतीश कुमार महागठबंधन के नेता हैं और उनके खिलाफ बयान देना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग सरकार को अस्थिर करने की साजिश में लगे हैं लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिलने वाली है। डा.चौधरी ने महागठबंधन के नेताओं को बयान देने में संयम बरतने की सलाह दी और कहा कि विशेषकर सार्वजनिक मंचों पर अनर्गल बयानबाजी से बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी को भी ऐसा कोई बयान नहीं देना चाहिए जिससे महागठबंधन को नुकसान हो और भाजपा को लाभ मिले। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!