ब्रेक्जिट बिल पर थेरेसा मे को दूसरा झटका

Thursday, March 9, 2017 6:25 PM
ब्रेक्जिट बिल पर थेरेसा मे को दूसरा झटका

लंदन: ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे को संसद में ब्रैक्जिट बिल पर एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार हार का सामना करना पड़ा है। संसद के ऊपरी सदन में यूरोपीय संघ से बाहर निकलने पर प्रधानमंत्री को बातचीत शुरू करने के अधिकार संबंधी बिल पर हुए मतदान में पराजय का सामना करना पड़ा है। बहुमत ने उनकी बातचीत के अंतिम परिणाम पर सांसदों के वीटो का पक्ष लिया है। 

मार्च के अंत तक ब्रैक्जिट से बाहर आने की प्रक्रिया शुरू करने की समय सीमा को लेकर प्रधानमंत्री पर दबाव पैदा हो गया है। 3 घंटे तक चली चर्चा के बाद हाऊस ऑफ लार्ड के 366 सदस्यों ने 28 सदस्यीय यूरोपीय यूनियन से बाहर निकलने की अंतिम शर्तो पर सार्थक मतदान का पक्ष लिया। इसके विरोध में 268 मत पड़े।एक दिन पहले मंगलवार को हुए इस मतदान से थेरेसा मे को अधिसूचना जारी करने का अधिकार देने वाले विधान में संशोधन किया गया है। संबंधित विधान के तहत प्रधानमंत्री मे को यूरोपीय यूनियन से बाहर आने की अधिसूचना जारी करने का अधिकार दिया जाएगा।

अधिसूचना के बाद ही ब्रैक्जिट पर अधिकृत वार्ता शुरू होगी। मंत्रियों ने संशोधन को निराशाजनक करार देते हुए कहा कि संसद के निचले सदन हाऊस ऑफ कॉमन्स में इसे पलट दिया जाएगा। इससे पहले एक मार्च को इस मुद्दे पर ऊपरी सदन में हार का सामना करना पड़ा था। हाऊस ऑफ लार्ड ने उस समय ब्रिटेन में यूरोपीय संघ के नागरिकों के अधिकार की गारंटी देने का पक्ष लिया था। दूसरी बार हुई हार से प्रधानमंत्री मे को गहरा धक्का लगा है। यह बिल 13 मार्च तक हाऊस ऑफ कॉमन्स में लौट आएगा। निचले सदन में थेरेसा की कंजरवेटिव पार्टी बहुमत में है, लेकिन हाउस ऑफ लार्ड में उनकी पार्टी अल्पमत में है।
 




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !