यदि आपका जन्म 13 मई और 14 जून के बीच हुआ है

Tuesday, May 2, 2017 10:27 AM
यदि आपका जन्म 13 मई और 14 जून के बीच हुआ है

इस समय सूर्य वृषभ राशि में होता है और वृषभ (बेल) के गुण एवं अवगुण इन जातकों में पाए जाते हैं। ऐसे व्यक्ति परिश्रमी और काम में लगे रहने वाले होते हैं। बहुत धैर्यपूर्वक लम्बे समय तक काम करने से ये लोग नहीं घबराते और ऐसे कार्यों में इन्हें प्राय: सफलता मिलती है। इन्हें क्रोध जल्दी नहीं आता, पर क्रोधित हो जाने पर महीनों और वर्षों तक क्रोध की भावना मन से नहीं जाती। ऐसे व्यक्तियों की इच्छाशक्ति दृढ़ होती है परंतु अपने मन की बात को दूसरे पर प्रकट नहीं करते और जब तक अपने लक्ष्य पर नहीं पहुंच जाते तब तक परिश्रमपूर्वक उसमें लगे रहते हैं। इसलिए ऐसे व्यक्ति शासन में सफल होते हैं। बहुत से जातकों को कृषि कार्य में भी रुचि होती है। धैर्यपूर्वक काम में लगे रहते हैं परंतु फिर आराम भी सुविधापूर्वक के साथ करते हैं। 


स्वयं जायदाद प्राप्त करने का सुयोग होता है परंतु मुकद्दमे या षड्यंत्र के कारण हानि होने की संभावना रहती है और यह भी संभव है कि बहुमूल्य जायदाद आकस्मिक रूप से औरों द्वारा प्राप्त हो। मित्रों और संबंधियों के स्नेह से ऐसे व्यक्तियों की आर्थिक उन्नति में वृद्धि होती है। यदि मध्य रात्रि के बाद और मध्याह्न के पूर्व जन्म हो तो ऐसे जातक का पिता अपने समाज में प्रतिष्ठित और उत्तराधिकारी होता है। भाई-बहनों में से किसी एक से कष्ट की संभावना हो और संभवत: किसी संबंधी के कारण लम्बी यात्रा करनी पड़े। यदि मध्य रात्रि के बाद और मध्याह्न से पहले जन्म हो तो बहुत यात्राओं का योग होता है और किसी एक यात्रा में संघातिक रोग का भी भय रहता है।


संतान की ओर से विशेष सावधानी की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त संतान उन्नति करेगी और उनके द्वारा संतोष प्राप्त होगा। ऐसे व्यक्तियों का जीवन शांतिमय होता है। कोई विशेष बड़ी घटनाएं नहीं होतीं परंतु ऐसे व्यक्ति अपनी जिद के कारण स्वयं कठिनाइयां पैदा कर लेते हैं। ऐसे व्यक्ति प्राय: तिल्ली, जिगर या वायु की बीमारियों से पीड़ित होते हैं। गुर्दे भी जैसे मजबूत होने चाहिएं, वैसे नहीं होते। इनमें 11, 23, 35वें वर्ष में रोग की संभावना होती है। चौपायों से या तेज औजारों से घाव होने का डर रहता है। किसी एक प्रेम संबंध में घोर दुख या निराशा का सामना करना पड़ेगा या वैवाहिक जीवन में। अंत में अपने प्रिय (पति-पत्नी) का अंत अपने जीवन काल में ही होने के कारण शोक होगा। जीवन के शुरू काल में आर्थिक हालत साधारण रहती है, परंतु अपने परिश्रम द्वारा ऐसे मनुष्य अपना भाग्योदय करते हैं। 


यदि ऐसा मनुष्य वस्त्र, सुगंधित वस्तु का व्यापार या दुकान करे तो जीविका उपार्जन करने में सफल होता है। ऐसा व्यक्ति गाने-बजाने में कुशल, विलासी किन्तु किसी स्त्री से शत्रुता रखने वाला भी होता है या कोई स्त्री या स्त्रियां भी ऐसे व्यक्ति से शत्रुता रखती हैं। अंग्रेजी ज्योतिष के मतानुसार इन्हें 6 की संख्या, शुक्रवार तथा सफेद या हल्का पीला रंग शुभ होगा।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !