पोंजी घोटाले में शुभेंदु की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सीबीआई दफ्तर के बाहर प्रदर्शन करेगी टीएमसी

punjabkesari.in Saturday, Jun 25, 2022 - 08:36 PM (IST)

कोलकाता, 25 जून (भाषा) शारदा पोंजी घोटाले में कथित संलिप्तता और केंद्रीय एजेंसियों द्वारा उनसे पूछताछ के लिए पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी को गिरफ्तार करने की अपनी मांग को तेज करते हुए सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने शनिवार को कहा कि उसकी युवा शाखा यहां सीबीआई कार्यालय के समक्ष और पुर्व मेदिनीपुर जिले के कुछ स्थान पर विरोध प्रदर्शन करेगी।

पार्टी ने एक बयान में कहा कि राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रत्य बसु के नेतृत्व में आठ सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात करेगा और “भ्रष्ट गतिविधियों में संलिप्तता के लिए” भाजपा नेता अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग करेगा।


टीएमसी प्रवक्ता कुणाल घोष ने एक बयान में कहा, “हमारी युवा और छात्र शाखाएं सीजीओ कॉम्प्लेक्स साल्ट लेक, सीबीआई कार्यालय, और पुर्व मेदिनीपुर जिले के हल्दिया और कांथी में विरोध प्रदर्शन करेंगी, जिसमें शुभेंदु अधिकारी को सारदा चिटफंड घोटाले और कई अन्य भ्रष्ट गतिविधियों में शामिल होने के संबंध में सलाखों के पीछे डालने की मांग की जाएगी।”

पूर्व मेदिनीपुर जिले से आने वाले अधिकारी विधानसभा में नंदीग्राम सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं।


नवनिर्वाचित टीएमसी विधायक बाबुल सुप्रियो, प्रदेश युवा विंग के अध्यक्ष सायोनी घोष, टीएमसीपी अध्यक्ष त्रिनंकुर भट्टाचार्य सीजीओ परिसर में आंदोलन का नेतृत्व करेंगे।


हल्दिया में टीएमसी नेता मानस भूनिया और राजीव बनर्जी विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगे।


अधिकारी ने 2021 के विधानसभा चुनावों से पहले टीएमसी छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था।


टीएमसी के प्रदेश महासचिव घोष ने शुक्रवार को एक प्रेसवार्ता के दौरान एक पत्र दिखाया, जिसे कथित तौर पर इस मामले में मुख्य आरोपी सुदीप्तो सेन ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को लिखा था। घोष ने दावा किया कि पत्र में सारदा समूह से वित्तीय लाभ लेने वाले लोगों में शुभेंदु अधिकारी का नाम भी शामिल है।


घोष ने कहा, ‘‘यह पत्र इस महीने की शुरुआत में अदालत को भेजा गया था और हमें इसकी प्रति हाल ही में मिली। इसमें साफ उल्लेख है कि शुभेंदु अधिकारी सारदा घोटाले के सबसे बड़े लाभार्थियों में शुमार रहे। सीबीआई को इस पत्र का संज्ञान लेना चाहिए। हमें इस बात पर आश्चर्य है कि वे इसका संज्ञान क्यों नहीं ले रहे?’’

घोष खुद भी इस मामले में आरोपी हैं।


बाद में, अधिकारियों से बात करते हुए अधिकारी ने कहा कि टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी 2021 के विधानसभा चुनावों के दौरान “नंदीग्राम सीट पर अपनी हार स्वीकार नहीं कर पाई हैं” और इसलिए “इन सभी बचकानी चालों को अंजाम दे रही हैं। मैं अपने खिलाफ टीएमसी के खेल को कोई महत्व नहीं दे रहा हूं।”


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News