बंगाल उच्चतर माध्यमिक परीक्षा में असफल रहे छात्रों ने प्रदर्शन किया

2021-07-24T20:47:23.843

कोलकाता, 24 जुलाई (भाषा) पश्चिम बंगाल उच्चतर माध्यमिक शिक्षा परिषद (डब्ल्यूबीसीएचएसई) द्वारा 12वीं की परीक्षा में अनुत्तीर्ण घोषित किए गए अनेक छात्रों ने शनिवार को राज्यभर में सड़कें बाधित कीं और एक स्कूल का फर्नीचर भी क्षतिग्रस्त कर दिया। इस साल कुल 97.69 फीसदी छात्र पास हुए हैं।

विरोध-प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण परीक्षा का आयोजन नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि ऐसे में किस तरह कुछ छात्रों को सफल जबकि कुछ को असफल घोषित किया गया?
इस साल छात्रों के लिए 10वीं और 11वीं कक्षा में मिले अंकों के आधार पर मूल्यांकन प्रक्रिया तय की गई थी।

इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने शिक्षा मंत्री ब्रत्य बसु के आवास तक पहुंचने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया।
डब्ल्यूबीसीएचएसई के एक अधिकारी ने बताया कि परिषद की अध्यक्ष महुआ दास इस मुद्दे पर कई स्कूलों के प्रमुखों से बात कर रही हैं।

अधिकारियों ने कहा कि गुस्साए छात्र पश्चिमी मेदिनीपुर जिले के इंदा कृष्णलाल शिक्षा निकेतन की कक्षाओं में घुस गए और खुद को उत्तीर्ण किए जाने की मांग की। छात्रों ने इस स्कूल के फर्नीचर को क्षतिग्रस्त कर दिया।

वहीं, मुर्शिदाबाद जिले के हरिहरपाड़ा में भी परीक्षा में असफल रहे कुछ छात्रों ने सरतपुर विद्यालय के पास सड़क बाधित कर दी और टायर जलाए। इसी तरह छात्रों ने मालदा जिले के हबीबपुर और उत्तर 24 परगना जिले के मध्यमग्राम चौमाठा में भी सड़क बाधित की।

मध्यमग्राम में एक प्रदर्शनकारी छात्रा ने कहा, '''' इस साल कोई परीक्षा आयोजित नहीं की गई। ऐसे में या तो हमें भी सफल घोषित किया जाए या सभी को असफल घोषित किया जाए।''''


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News