मोदी सरकार के सत्ता से हटने तक विपक्षी दलों की लड़ाई जारी रहेगी: येचुरी

09/23/2021 10:42:43 AM

हैदराबाद, 22 सितंबर (भाषा) माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने बुधवार को कहा कि देश बचाने के लिए 19 विपक्षी दलों की लड़ाई एक जन आंदोलन की तरह शुरू हो गई है और यह नरेंद्र मोदी सरकार के सत्ता से हटने तक जारी रहेगी तथा इसमें और भी दल शामिल हो रहे हैं।

कई गैर-भाजपा, गैर-टीआरएस विपक्षी दलों द्वारा यहां आयोजित एक विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने वाले येचुरी ने 20 से 30 सितंबर तक देशभर में संयुक्त विरोध प्रदर्शन आयोजित करने की 19 दलों की (अगस्त में की गई) घोषणा को याद किया। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी भी 19 दलों में शामिल हो गई है।

उन्होंने यहां धरना चौक पर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘आज मुख्य विचार क्या है ... मोदी सरकार से कुछ मांगों की मांग करना नहीं है। आज, हम, लोग घोषणा कर रहे हैं। यह आज से शुरू हो रहा है। हमें पहले भारत को बचाना है। इस धरने का महत्व यह है कि देश को बचाने के लिए जन आंदोलन शुरू हो रहा है।’’
उन्होंने कहा कि विरोध प्रदर्शन 30 सितंबर से आगे भी जारी रहेगा।

उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रीय स्तर पर उन्नीस दल एक साथ आए हैं। हालांकि, हर राज्य में कई दल इसमें शामिल हो रहे हैं। यह एक बड़े जन आंदोलन की तरह शुरू हुआ है। यह लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक हम अपने भारत को नहीं बचा लेते और मोदी को सत्ता से हटा नहीं देते। हम सभी आज यह वादा कर रहे हैं।’’
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार संविधान के चार स्तंभों - धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र, सामाजिक न्याय, संघवाद और आर्थिक संप्रभुता को नष्ट कर रही है।

उन्होंने कहा कि अगर संविधान नहीं होगा तो कोई लोकतांत्रिक अधिकार नहीं होगा और इससे देश में निरंकुशता की स्थिति पैदा होगी। उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्षी दलों के नेताओं पर सीबीआई या प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी चल रही है और उनसे आत्मसमर्पण कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बयान दिए जाते हैं कि भाजपा सरकार बनाएगी चाहे चुनाव कोई भी जीता हो।

राजग सरकार पर निशाना साधते हुए येचुरी ने सभी के लिए कोविड​​​​-19 टीके, उन सभी परिवारों को प्रति माह 7,500 रुपये का प्रत्यक्ष आय हस्तांतरण जो आयकर का भुगतान नहीं करते हैं और (केंद्रीय गोदामों में बंद) खाद्यान्न के मुफ्त वितरण की मांग की।

उन्होंने कहा कि राजग सरकार प्रदर्शन कर रहे किसान समुदाय और निजीकरण के खिलाफ संघर्ष कर रही ट्रेड यूनियनों से बात नहीं कर रही है। माकपा नेता ने कहा कि मोदी अपनी अमेरिकी यात्रा के दौरान विदेशी राष्ट्रों के प्रमुखों से बात कर रहे हैं और चिंता यह है कि वह वहां क्या बेचेंगे।

उन्होंने कहा कि संविधान और देश की रक्षा के लिए विपक्षी दलों का समर्थन किया जाना चाहिए।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और सांसद ए रेवंत रेड्डी, वाम दलों, तेलुगु देशम पार्टी, तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) और अन्य दलों के नेताओं ने इस अवसर पर संबोधन दिया
19 दलों के नेताओं ने 20 अगस्त को कहा था कि वे 20 से 30 सितंबर तक देश भर में संयुक्त विरोध प्रदर्शन करेंगे । उन्होंने लोगों से बेहतर कल के लिए देश बचाने का आग्रह भी किया था।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News