भारत वैज्ञानिक क्रांति की दहलीज पर : प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार

punjabkesari.in Sunday, Sep 25, 2022 - 08:32 PM (IST)

चेन्नई, 25 सितंबर (भाषा) भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार अजय कुमार सूद ने रविवार को कहा कि भारत क्वांटम प्रौद्योगिकी, डिजिटल प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य सहित कई क्षेत्रों में वैज्ञानिक क्रांति की दहलीज पर है।

अजय कुमार सूद ने यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी की चुनौती से निपटने के लिए देश के प्रयासों ने लोगों को यह सिखाया है कि सामूहिक कोशिशों के जरिए भारत वैज्ञानिक क्षेत्र में असाधारण प्रगति हासिल कर सकता है।

एसआरएम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान के 18वें दीक्षांत समारोह में छात्रों को डिग्री प्रदान करने के बाद देश के शीर्ष वैज्ञानिक सूद ने कहा, ‘‘प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के कार्यालय ने सरकार के विभागों और मंत्रालयों में एक स्वास्थ्य मिशन की शुरुआत पर चर्चा शुरू की है, जो मनुष्यों, पशुधन और वन्यजीवों के दायरे से परे बीमारियों की निगरानी और नियंत्रण को एकीकृत करेगा।’’
दुनिया आज भारत की ओर प्रशंसा और उम्मीद से देख रही है कि वह स्वच्छ ऊर्जा, जल उपचार, स्वच्छ पर्यावरण और सतत विकास जैसे वैश्विक मुद्दों को सुलझाने में योगदान देगा।

उन्होंने नए स्नातकों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘यह निश्चित रूप से हमारी पहुंच के भीतर है और हमारे शोध को अभियांत्रिकी और मानविकी विषयों में बुनियादी विज्ञान से लेकर सभी विषयों में दुनिया में सबसे बेहतर से तुलनीय होना चाहिए। मैं आपसे ज्ञान की सीमाओं को आगे बढ़ाने और इस ज्ञान का सामाजिक विकास के लिए इस्तेमाल करने का आग्रह करता हूं।’’
उन्होंने कहा कि एक मजबूत देश की ताकत को शिक्षा, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के क्षेत्र में उसकी उपलब्धियों के संदर्भ में मापा जाता है।

अजय कुमार सूद ने कहा, ‘‘हालांकि हमने व्यक्तिगत रूप से सभी चार क्षेत्रों में काफी प्रगति की है, मैं यह बताना चाहता हूं कि हमने इन चार क्षेत्रों का बहुत लंबे समय के लिए नेतृत्व भी किया है।’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News