अन्नाद्रमुक की बैठक में घमासान, पन्नीरसेल्वम पर फेंकी गईं बोतलें

punjabkesari.in Thursday, Jun 23, 2022 - 05:32 PM (IST)

चेन्नई, 23 जून (भाषा) अन्नाद्रमुक की आम परिषद की बैठक में बृहस्पतिवार को हंगामे के बीच सभी 23 प्रस्ताव खारिज कर दिए गए और घोषणा की गई कि परिषद सदस्यों की एकमात्र मांग संयुक्त समन्वयक ई.के. पलानीस्वामी के पक्ष में पार्टी के लिये एकल नेतृत्व प्रणाली पेश करना है।
पार्टी के संयोजक पन्नीरसेल्वम जब मंच से जाने वाले थे, तब उनके बहुत करीब एक बोतल आकर गिरी। बोतल पन्नीरसेल्वम पर गिरने ही वाली थी, लेकिन उनके निजी सुरक्षा अधिकारी ने अपनी बाहें उनके आसपास फैलाकर उन्हें बचा लिया। मंच से उतरकर जब वह निकास द्वार की ओर जा रहे थे तब एक और बोतल उनके पास गिरी।

बैठक के समय पन्नीरसेल्वम और पलानीस्वामी समर्थकों के बीच जबरदस्त नारेबाजी देखने को मिली। दोनों नेताओं के समर्थकों के बीच जोरदार बहस हुई और दोनों पक्षों ने अपने-अपने नेताओं का पूरा समर्थन किया। पन्नीरसेल्वम और पलानीस्वामी जब बैठक स्थल पर पहुंचे तो दोनों के समर्थकों ने उनका स्वागत करते हुए नारेबाजी की।

दूसरी ओर, द्रमुक के अध्यक्ष व तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अन्नाद्रमुक में चल रही अंदरूनी लड़ाई का जिक्र किया और कहा कि जो उनकी पार्टी को खत्म करना चाहते थी, वो अब अपने खात्मे की ओर बढ़ रही है।

इससे पहले बैठक के दौरान सभी 23 प्रस्तावों को खारिज कर दिया गया और घोषणा की गई कि परिषद के सदस्यों की एकमात्र मांग संयुक्त समन्वयक ई.के. पलानीस्वामी के पक्ष में पार्टी के लिए एकल नेतृत्व व्यवस्था पेश करना है।
बैठक शुरू होते ही पहले से तय प्रस्तावों को पारित करने की प्रक्रिया शुरू हुई। इनमें से पहला प्रस्ताव पार्टी समन्वयक ओ. पन्नीरसेल्वम ने जबकि दूसरा पलानीस्वामी ने पेश किया। पलानीस्वामी ने संक्षिप्त संबोधन में पन्नीरसेल्वम को अपना ''भाई'' बताया।

हाल में राज्यसभा सदस्य निर्वाचित हुए वरिष्ठ नेता सी.वी. षणमुगम ने घोषणा की कि सामान्य परिषद सभी प्रस्तावों को खारिज करती है। उन्होंने पलानीस्वामी के पक्ष में अन्नाद्रमुक के लिये एकल नेतृत्व की जरूरत पर बात की।
षणमुगम ने कहा कि परिषद के लगभग ज्यादातर (2,500 से अधिक) सदस्यों ने पलानीस्वामी का समर्थन किया।

पार्टी के उपसचिव के. पी. मुनुसामी ने कहा कि परिषद सदस्यों ने सभी 23 प्रस्तावों को खारिज कर दिया है।
उन्होंने कहा, ''''उनकी एकमात्र मांग केवल एकल नेतृत्व के लिए है।"
जिस दिन एकल नेतृत्व प्रस्ताव पेश करके उसे पारित किया जाएगा, उसी दिन अन्य सभी प्रस्तावों को भी मंजूरी दी जाएगी।

वहीं, पन्नीरसेल्वम, परिषद सदस्यों के एकल नेतृत्व की मांग पर अड़े रहने और अपने प्रतिद्वंद्वी पलानीस्वामी का पक्ष लिए जाने के बाद बैठक छोड़कर चले गए।

पलानीस्वामी के समर्थकों ने जैसे ही उन्हें एक सजा हुआ ताज, एक तलवार और राजदंड भेंट किया, पन्नीरसेल्वम और अन्नाद्रमुक उप सचिव वैथीलिंगम समेत उनके समर्थक बैठक से चले गए। शोर-गुल के बीच परिषद की बैठक 40 मिनट तक चली।

वरिष्ठ पदाधिकारी व पूर्व मंत्री बी. वलरमथी ने पलानीस्वामी के समर्थन में पार्टी के संस्थापक एमजी रामचंद्रन की फिल्म का एक गाना गाया और कहा, ''एक नेता उभरेगा''
बैठक में पलानीस्वामी के समर्थक उन्हें पार्टी का सर्वोच्च नेता बनाने की मांग पर अड़े रहे। यह घटनाक्रम पन्नीरसेल्वम के समर्थकों के सामने पलानीस्वामी खेमे की ताकत को दर्शाता है।

बैठक में जब एकल नेतृत्व की मांग उठी, तब पन्नीरसेल्वम मंच पर पलानीस्वामी के निकट बैठे थे। पार्टी ने घोषणा की कि आम परिषद की अगली बैठक 11 जुलाई को होगी।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News