स्टालिन ने ‘अग्निपथ’ योजना की निंदा की, राज्यपाल रवि ने इसे ‘क्रांतिकारी’ नीति बताया

punjabkesari.in Saturday, Jun 18, 2022 - 08:55 PM (IST)

चेन्नई, 18 जून (भाषा) तमिलनाडु में केंद्र की ‘अग्निपथ’ योजना के विरूद्ध युवाओं द्वारा यहां प्रदर्शन किये जाने के बीच मुख्यमंत्री स्टालिन ने इस प्रस्ताव के खिलाफ चिंता प्रकट की, जबकि राज्यपाल आर एन रवि ने इसे ‘क्रांतिकारी एवं परिवर्तनकारी’ नीति करार दिया।
स्टालिन ने आरोप लगाया कि यह योजना राष्ट्रीय हितों के विरूद्ध है और केंद्र से इस पर पुनर्विचार करने की मांग की। हालांकि, रवि ने युवाओं से ‘शत्रु तत्वों के हाथों गुमराह नहीं होने’ की अपील की।

केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के खिलाफ करीब 150 लोगों ने शनिवार को यहां युद्ध स्मारक के पास प्रदर्शन किया और आरोप लगाया कि यह योजना सेना में शामिल होने के उनके सपने को प्रभावित करेगी।
उनमें से कई के हाथों में तिरंगा था। वे चाहते थे कि साझा प्रवेश परीक्षा 2021 तत्काल आयोजित की जाए। एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि सेना में शामिल होना उसका सपना रहा है, इसलिए उसने 12वीं कक्षा पास करने के बाद स्नातक की पढ़ाई भी नहीं की। उसने आशंका जताई कि ‘अग्निपथ’ पर फैसला उसकी करियर संभावना पर असर डालेगा। बाद में पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटा दिया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि युवा तो ‘अग्निपथ’ के विरूद्ध व्यापक रूप से प्रदर्शन कर ही रहे हैं, ‘कई पूर्व सैन्य अधिकारी’, जो देश को लेकर चिंतिंत हैं, उन्होंने भी उसका विरोध किया है।’
उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘ मैं केंद्र सरकार से अग्निपथ योजना वापस लेने का अनुरोध करता हूं, जो राष्ट्रीय हित के विरूद्ध है और सेना की नौकरी पाने के युवाओं के सपने पर असर डालता है।’’
उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा को ध्यान में रखकर भी सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए।

रवि ने तूतीकोरिन में कहा, ‘‘ अग्निपथ योजना युवाओं को सशस्त्र बलों में शामिल होने के लिए सक्षम बनाने को लेकर एक क्रांतिकारी एवं परिवर्तनकारी नीति है।’’
राजभवन से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, उन्होंने कहा, ‘‘ युवाओं को कुछ शत्रु तत्वों के हाथों गुमराह नहीं होना चाहिए। युवावस्था में राष्ट्रसेवा करने के बाद वे जीवन में बेहतर करने के लिए आत्मविश्वास, अनुशासित, उचित प्रशिक्षण, वित्तीय रूप से मजबूत और हुनरमंद होकर बाहर आ सकते हैं। ’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News