मानव तस्करी से लड़ने के लिये युवा दूतों की जरूरत : तेलंगाना महिला आयोग की प्रमुख

punjabkesari.in Saturday, Jun 25, 2022 - 10:54 PM (IST)

नयी दिल्ली, 25 जून (भाषा) तेलंगाना राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष वकिति सुनीता लक्ष्मा रेड्डी ने शनिवार को कहा कि कई महिलाएं और बच्चे मानव तस्करी का शिकार हो जाते हैं और इस खतरे से निपटने के लिए जागरूकता पैदा करने के वास्ते युवाओं को ‘ब्रांड एंबेसडर’ के रूप में काम करना चाहिए।


रेड्डी ने एक बयान में कहा, “नशीली दवाओं और हथियारों की आपूर्ति के बाद दुनिया में मानव तस्करी को लेकर चिंता बढ़ रही है। यह दुखद है कि ज्यादातर महिलाएं और बच्चे मानव तस्करी के शिकार होते हैं।”

उन्होंने कहा कि महिलाओं से प्यार करने का नाटक करना, नौकरी के अवसरों में विश्वास कराना, बेरोजगारी, तलाकशुदा महिलाओं को अपने वश में करना, अकेले रहने वाली महिलाओं की निरक्षरता, फिल्म में अभिनय का अवसर दिलाने आदि मानव तस्करी के मुख्य कारण हैं।


इस खतरे को रोकने की तत्काल आवश्यकता पर बल देते हुए रेड्डी ने युवाओं से जागरूकता पैदा करने और लोगों को शिक्षित करने के लिए ‘ब्रांड एंबेसडर’ के रूप में आगे आने का आह्वान किया।


उन्होंने कहा कि सरकारी संगठनों के साथ-साथ नागरिक संस्थाओं और स्वैच्छिक सेवा संगठनों को अहम भूमिका निभानी होगी।


उन्होंने कहा कि महिला हेल्पलाइन नंबर 181 और महिला आयोग व्हाट्सऐप नंबर 9490555533 और चाइल्डलाइन नंबर 1098 मौजूद हैं तथा मानव तस्करी के संबंध में इन नंबरों पर कॉल किया जा सकता है।


रेड्डी राष्ट्रीय महिला आयोग और पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो द्वारा संयुक्त रूप से ‘मानव तस्करी’ पर आयोजित एक जागरूकता संगोष्ठी में भाग लेने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में थीं।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News