मंदिरों को सरकारी नियंत्रण से मुक्त कराने के लिये अभियान चलायेगा विश्व हिन्दू परिषद

10/20/2021 8:09:31 PM

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) हिन्दू मंदिरों का संचालन हिन्दू भक्तों के हाथों में दिए जाने के आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के हाल में दिये बयान की पृष्ठभूमि में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) देश भर के मंदिरों को सरकारी नियंत्रण से मुक्त करने के लिये एक अभियान शुरू कर रही है।
विहिप इस अभियान के तहत देश के आम नागरिकों सहित धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक, कानूनी क्षेत्र के लोगों से विचार विमर्श किया जायेगा और उनके अनुभवों के आधार पर सरकार से कदम उठाने की मांग की जायेगी । विहिप सूत्रों ने यह जानकारी दी।

विहिप के संयुक्त महामंत्री डा. सुरेन्द्र जैन ने ‘भाषा’ को बताया कि परिषद के कार्याध्यक्ष आलोक कुमार को इस अभियान का संयोजक बनाया गया है । उन्होंने बताया, ‘‘ इस विषय पर देश के साधु संतों से बात शुरू की गई है । इसके कानूनी पहलुओं पर भी विचार विमर्श किया जायेगा । इस पर वकीलों एवं संविधान विशेषज्ञों की एक टीम बनाई गई है । ’’
डा. जैन ने कहा कि विहिप एक समिति का भी गठन करेगी ताकि पूरे अभियान को व्यवस्थित रूप से चलाया जा सके ।
विश्व हिन्दू परिषद ऐसे समय में मठ मंदिरों को सरकारी नियंत्रण से मुक्त बनाने का अभियान शुरू करने जा रही है जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने दशहरा के मौके पर अपने संबोधन में कहा था कि हिन्दू धर्मस्थानों को व्यवस्था के नाम पर दशकों शतकों तक हड़प लेने, अभक्त/अधर्मी/विधर्मी के हाथों उनका संचालन करवाने आदि अन्याय दूर हों तथा हिन्दू मंदिरों का संचालन हिन्दू भक्तों के ही हाथों में रहे ।

विश्व हिन्दू परिषद के संयुक्त महामंत्री सुरेन्द्र जैन ने कहा कि अंग्रेजों के काल में वैसे मंदिरों पर अधिपत्य जमा लिया गया जहां काफी मात्रा में धन था और आजादी के बाद भी यह जारी रहा ।

विहिप के वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ‘‘ मंदिरों का सरकारीकरण नहीं सामाजीकरण हो । मंदिर समाज चलाये, ट्रस्ट बने । स्वामीनारायण मंदिर, इस्कॉन मंदिर उदाहरण हैं जिन्हें ट्रस्ट काफी अच्छे ढंग से चला रहे हैं । ’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News