वकीलों के वेश में बंदूकधारियों ने रोहिणी अदालत के अंदर गैंगस्टर गोगी को गोली मारी, पुलिस कार्रवाई में दो हमलावर मारे गए

09/25/2021 10:19:56 AM

नयी दिल्ली, 24 सितंबर (भाषा) दिल्ली की रोहिणी अदालत में शुक्रवार को गैंगस्टर जितेंद्र गोगी की वकील के वेश में आये दो हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस की तत्परता से की गयी जवाबी कार्रवाई में दोनों हमलावर भी मारे गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
गोलीबारी के वीडियो फुटेज में दिख रहे दो हमलावर प्रतिद्वंद्वी गिरोह से थे, जिसमें गोलियों की आवाज सुनी जा सकती है। पुलिसकर्मियों और वकीलों के बीच हाथापाई हुई, लेकिन अधिकारियों ने कहा कि कोई और घायल या मौत नहीं हुई।
दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता चिन्मय बिस्वाल ने कहा कि दोनों हमलावर दिल्ली के मोस्ट वांटेड में से एक विचाराधीन कैदी गोगी के साथ मारे गए।
उन्होंने कहा, "पुलिस टीम ने दो हमलावरों पर जवाबी कार्रवाई शुरू की, जो वकीलों की पोशाक में थे और गोगी पर हमला किया था। गोगी के साथ दोनों हमलावर मारे गए।"
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि एक महिला वकील के पैर में भी गोली लगी है।
पुलिस ने कहा कि घटना दोपहर करीब 1.15 बजे हुई जब गोगी को सुनवाई के लिए अदालत कक्ष संख्या 207 लाया गया और वकीलों पोशाक में आए दो गैंगस्टरों ने उस पर गोलियां चला दीं।
वकील सुनील तोमर, जो अपने मुवक्किल की जमानत के मामलों के लिए अदालत कक्ष में मौजूद थे, ने कहा कि घटना के समय न्यायाधीश गगनदीप सिंह की अदालत में 15-17 लोग थे।

तोमर ने पीटीआई-भाषा को बताया, "जैसे ही गोगी ने अदालत कक्ष में प्रवेश किया, वकीलों के वेश में आए दो व्यक्तियों ने अपनी पिस्तौलें निकालीं और अचानक उस पर गोलियां चला दीं। गोलियों की आवाज सुनने के बाद, लोग अदालत कक्ष के अंदर अपनी जान बचाने के लिए भागने लगे और न्यायाधीश भी अदालत कक्ष के ठीक पीछे अपने कार्यालय वापस चले गए।’’ उन्होंने दावा किया कि हमलावरों ने गोगी को करीब 10 गोलियां मारीं। उन्होंने कहा कि पहले 15 मिनट तक मुझे समझ नहीं आ रहा था कि वहां क्या हो रहा है।

वहां मौजूद अधिवक्ता मनोज कुमार निगम ने कहा कि एक महिला वकील के पैर में भी गोली लगी है।
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि गोगी के साथ दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की काउंटर इंटेलिजेंस यूनिट के सदस्य भी थे।
उन्होंने कहा, "जब गोगी ने अदालत कक्ष में प्रवेश किया, तो वकीलों के वेशभूषा में आए दो हमलावरों ने अपनी पिस्तौल निकाली और गोगी पर गोलियां चला दीं। तुरंत, गोगी के साथ गई काउंटर इंटेलिजेंस टीम के कर्मियों ने जवाबी कार्रवाई की जिसमे दो हमलावर मौके पर ही मारे गये।’’ बाद में, दिल्ली पुलिस ने एक ट्वीट में कहा, "दो गैंगस्टर पुलिस की तत्काल जवाबी गोलीबारी में मारे गए, क्योंकि उन्होंने आज दोपहर रोहिणी अदालत परिसर में एक गैंगस्टर यूटीपी (विचाराधीन कैदी) पर वकीलों की पोशाक में गोलियां चलाईं। सभी तीन गैंगस्टर मारे गए। कोई अन्य घायल या मौत नहीं हुई।" पुलिस ने यह भी कहा कि संयुक्त पुलिस आयुक्त (उत्तरी रेंज) घटना की जांच करेंगे और रिपोर्ट सौंपेंगे।

कुछ वकीलों ने दावा किया कि रोहिणी अदालत में गोलीबारी की यह पहली घटना नहीं है।
एक वकील राजीव अग्निहोत्री ने कहा, "मैं अदालत से बाहर जा रहा था जब यह घटना हुई। मैंने गोली की आवाज सुनी और बाद में और गोलियां चलाई गईं। गोगी नामक एक व्यक्ति को गोली मार दी गई, जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की और उन्होंने दो हमलावरों मार गिराया। यह (गोलीबारी की घटना) रोहिणी में चौथी या पांचवीं बार हुआ है। इसलिए अभी तक स्थिति में सुधार नहीं हुआ है।" पुलिस के मुताबिक, जितेंद्र मान उर्फ ​​गोगी, जिसके सिर पर 6.5 लाख रुपये का इनाम था, को उसके तीन साथियों के साथ पिछले साल मार्च में स्पेशल सेल की एक टीम ने गुड़गांव से गिरफ्तार किया था।
उसे कुलदीप नान उर्फ ​​फज्जा, कपिल उर्फ ​​गौरव और रोहित उर्फ ​​कोई के साथ गिरफ्तार किया गया था।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News