ओडिशा से विमान द्वारा ऑक्सीजन लाने के किए जा रहे हैं प्रयास: केजरीवाल

2021-04-22T18:59:35.243

नयी दिल्ली, 22 अप्रैल (भाषा) कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण शहर के अनेक अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को कहा कि दिल्ली सरकार ओडिशा से हवाई मार्ग से ऑक्सीजन मंगाने के प्रयास कर रही है।

केजरीवाल ने दिल्ली में कोविड-19 रोगियों के उपचार के लिए राजधानी का ऑक्सीजन का कोटा बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार और दिल्ली उच्च न्यायालय का शुक्रिया अदा किया और कहा कि आपूर्ति राष्ट्रीय राजधानी में पहुंचने लगी है।

उन्होंने केंद्र सरकार और हरियाणा सरकार से यह अनुरोध भी किया कि दिल्ली के लिए चिकित्सीय ऑक्सीजन लेकर आ रहे वाहनों को सुगमता से आने दिया जाए।

केजरीवाल ने एक ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दिल्ली के लिए बढ़ाये गये ऑक्सीजन के कोटे में से अधिकतर हिस्से की आपूर्ति ओडिशा से होनी है और दिल्ली सरकार इस संकट के दौरान वक्त बचाने के लिए हवाई मार्ग से वहां से ऑक्सीजन लाने की योजना बना रही है।

इसके बाद केजरीवाल को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक का फोन आया जिसमें उन्होंने दिल्ली सरकार को ऑक्सीजन की आपूर्ति में पूरी तरह सहयोग का आश्वासन दिया।

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘नवीन पटनायक जी का फोन आया। उन्होंने ओडिशा से दिल्ली के ऑक्सीजन के कोटे को पहुंचाने में दिल्ली को पूरी तरह मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने एक वरिष्ठ अधिकारी को यह काम सौंपा है। बहुत धन्यवाद सर। दिल्ली बहुत आभारी है।’’
केजरीवाल ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से भी बात की और पड़ोसी राज्य से दिल्ली तक ऑक्सीजन ट्रकों को आने देने में उनकी मदद मांगी। केजरीवाल ने दावा किया कि खट्टर ने पूरी तरह सहयोग का आश्वासन दिया।

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लिए चिकित्सीय ऑक्सीजन की रोजाना की मात्रा 378 मीट्रिक टन निर्धारित थी जिसे बढ़ाकर 480 मीट्रिक टन कर दिया गया है और इसके लिए उन्होंने केंद्र का शुक्रिया अदा किया। साथ ही कहा कि अनुमान के मुताबिक, दिल्ली को रोज 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि केंद्र द्वारा निर्धारित कोटे के मुताबिक, दूसरे राज्यों से ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है लेकिन कुछ राज्य राष्ट्रीय राजधानी आ रहे ट्रकों को रोक रहे हैं।

केजरीवाल ने कहा, ‘‘यह ठीक नहीं है। यह बड़ी आपदा है और हमें एकजुट होकर लड़ने की जरूरत है। अगर हम सब एक साथ ‘भारतीय’ बनकर लड़ेंगे, तो हम कोरोना को हरा देंगे। अगर हम बंट गये तो भारत नहीं बचेगा।’’
उन्होंने राज्य सरकारों से एक-दूसरे की मदद करने की अपील की और दिल्ली में स्थिति नियंत्रण में आने पर अतिरिक्त ऑक्सीजन, दवाओं और डॉक्टरों को उनके लिए भेजने का वादा किया।

केजरीवाल ने कहा, ‘‘हमने दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडरों की भारी कमी का सामना किया है। दिल्ली सरकार अस्पतालों और कोविड देखभाल केंद्रों में ऑक्सीजन की व्यवस्था करने की कोशिश में पलक झपकाए बिना दिन-रात काम कर रही है।’’
उन्होंने दावा किया कि दूसरे राज्यों में यह समस्या सामने आई कि यहां ऑक्सीजन उत्पादक ऑक्सीजन सिलेंडरों को दिल्ली नहीं आने दे रहे।

केजरीवाल ने कहा, ‘‘वे कहते हैं कि अपने राज्यों में ऑक्सीजन का इस्तेमाल करना चाहते हैं। ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाले ट्रकों को रोका जा रहा है। हम केंद्र सरकार और दिल्ली उच्च न्यायालय के आभारी है जिन्होंने इस हालात में हमारी मदद की है। धीरे-धीरे ट्रक दिल्ली पहुंचना शुरू हो गये हैं।’’
उन्होंने अपील की, ‘‘यह संकट सभी के लिए है। अगर हम अपने आप को हरियाणा, पंजाब, तमिलनाडु, गुजरात, पश्चिम बंगाल में बांट देंगे तो भारत नहीं बचेगा। हमें साथ आने और भारतीयों तथा इंसानों के रूप में एक होने की जरूरत है।’’
केजरीवाल ने कहा कि देश इस समय राज्यों में बंटवारे को सहन नहीं कर सकता।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

PTI News Agency

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static