See More

प्रधानमंत्री चीन का नाम क्यों नहीं ले रहे, इतने ‘कमजोर' क्यों हैं : कांग्रेस

2020-07-04T05:34:40.683

नई दिल्लीः कांग्रेस ने लद्दाख में सैनिकों को संबोधित करने के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चीन का नाम नहीं लिए जाने को लेकर शुक्रवार को सवाल किया कि आखिर प्रधानमंत्री को हमारे देश में घुसपैठ करने वाले देश का नाम लेने से गुरेज क्यों हैं और वह इतने ‘कमजोर' क्यों हैं। 
PunjabKesari
पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने ट्वीट किया, ‘‘ एक हफ्ते में तीसरी बार प्रधानमंत्री ने चीन का नाम एक आक्रमणकारी के तौर पर नहीं लिया। ऐसा क्यों है ? देश के लोगों और हमारे जवानों से अनाम ‘शत्रु' के बारे में बात करने का क्या मतलब है ?'' उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को अभी यह जवाब देना है कि अगर चीन की सेना ने घुसपैठ नहीं की तो फिर 15-16 जून की रात भारतीय जवानों और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प कहां हुई थी? 
PunjabKesari
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री ने 28 जून, 2020 को “मन की बात” में चीन का नाम नहीं लिया। 30 जून, 2020 को “राष्ट्र के नाम” संदेश में उन्होंने चीन का नाम नहीं लिया। 3 जुलाई, 2020 को “सैनिकों से बात” में भी उन्होंने चीन का नाम नहीं लिया।'' उन्होंने सवाल किया, ‘‘मज़बूत भारत के प्रधानमंत्री इतने कमजोर क्यों हैं ? चीन का नाम तक लेने से गुरेज़ क्यों है? चीन से, आंख में आंख डाल कब बात होगी ?'' 
PunjabKesari
कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के लद्दाख दौरे की एक पुरानी तस्वीर शेयर करते हुए कहा, ‘‘उन्होंने (इंदिरा) लेह का दौरा किया तो उसके बाद पाकिस्तान दो हिस्सों में बंट गया। अब तक देखते हैं वह (मोदी) क्या करते हैं।'' 

गौरतलब है कि चीन को स्पष्ट संदेश देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को कहा कि ‘‘विस्तारवाद'' का युग समाप्त हो चुका है तथा पूरे विश्व ने इसके खिलाफ मन बना लिया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय सेना ने शत्रुओं को जो पराक्रम और ‘‘प्रचंडता'' दिखाई, उससे दुनिया को देश की ताकत का संदेश मिल गया। भारत, चीन की सेनाओं के बीच लद्दाख के सीमावर्ती क्षेत्रों में चल रहे तनाव के बीच प्रधानमंत्री ने आज लेह का दौरा किया और पड़ोसी मुल्क के साथ सीमा गतिरोध के मामले को लेकर भारत की दृढ़ता के संकेत दिए। 


Pardeep

Related News