गवर्नर से होटल कारोबारियों का सवाल, बिना फोन घाटी में कैसे आए सैलानी?

10/10/2019 12:53:56 PM

श्रीनगर: कश्मीर में घाटी के बड़े होटल व्यवसायियों और पर्यटन से जुड़े समूहों ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक के निर्देशों की आलोचना की है। गवर्नर ने राज्य प्रशासन को कश्मीर आने वाले सैलानियों के लिए जारी ट्रैवल एडवाइजरी रद्द करने का आदेश दिया था। हालांकि घाटी में कई जगहों पर संचार व्यवस्था अब भी ठप्प है। इसकी वजह से मोबाइल 'फोन और इंटरनैट की सुविधा उपलब्ध नहीं है। ऐसे में होटल कारोबारियों ने बिना फोन सुविधा के सैलानियों को न्यौता देने के निर्देशों पर सवाल उठाए हैं।

PunjabKesari

5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद-370 के ज्यादातर प्रावधानों को हटाए जाने के बाद से घाटी में संचार व्यवस्था पटरी पर नहीं लौटी है राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने सोमवार को राज्य के गृह विभाग को निर्देश दिया कि अगस्त में जारी की गई एडवाइजरी को वापस लें, जिसमें पर्यटकों को घाटी छोड़ने के लिए कहा गया था। ताजा निर्देश में 10 अक्तूबर से घाटी में पर्यटकों के आगमन को हरी झंडी दी गई है। श्रीनगर में हाऊसबोट के मालिक अब्दुल रहमान मल्ला ने ट्रैवल एडवाइजरी वापस लेने के फैसले की खिल्ली उड़ाते हुए कह्म कि पर्यटक कश्मीर कैसे जा सकते हैं, जब मोबाइल 'फोन और इंटरनैट सेवाएं बंद हैं।

PunjabKesari

एक अन्य शिकारा के मालिक मोहम्मद याकूब ने वीरान पड़ी डल झील की ओर इशारा करते हुए कहा कि कश्मीर के पर्यटन उद्योग को बड़ी चोट पहुंची है और इसे ठीक होने में 3-4 साल तक लग सकते हैं। वही ट्रैवल एजैंट मुश्ताक अहमद डार कहते हैं कि मोबाइल के बगैर हम बंधक हैं, क्योंकि हमारा व्यापार काफी हद तक इंटरनैट पर निर्भर है। घाटी घूमने की मंशा रखने वाले लोग पूछताछ और बुकिंग के लिए हमसे इंटरनैट के जरिए ही संपर्क करते हैं।

PunjabKesari

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने भी स्वीकार किया कि पर्यटकों के लिए मोबाइल फोन और इंटरनैट जैसी सुविधाएं शुरू किए बिना उन्हें घाटी में आमंत्रित करना हास्यास्पद है। ट्रैवल एजैंट मोहम्मद अशरफ ने कहा कि कश्मीर में मौजूदा पर्यटन सीजन अभी के लिए खत्म हो गया है और पर्यटकों, घरेलू और विदेशी, जो सर्दियों में घाटी की यात्रा करना पसंद करते हैं, की बुकिंग शुरु करनी होगी, लेकिन कई जगह पर कम्युनिकेशन बंद होने की बजह से यह संभव नहीं है।

PunjabKesari

 


Author

rajesh kumar

Related News