जम्मू-कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस को झटका, शहनाज गनई ने थामा BJP का दामन

punjabkesari.in Monday, Feb 12, 2024 - 06:01 PM (IST)

नई दिल्लीः नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) की पूर्व नेता और विधान परिषद की पूर्व सदस्य शहनाज गनई सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गईं। केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह, भाजपा के महासचिव और जम्मू-कश्मीर के प्रभारी तरुण चुघ तथा राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद जफर इस्लाम की मौजूदगी में गनई ने केंद्र की सत्ताधारी पार्टी की सदस्यता ली। भाजपा नेताओं ने इस अवसर पर अनुसूचित जनजाति और क्षेत्र में महिलाओं के लिए गनई के काम की सराहना की। गनई ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने लोगों के लिए काफी अच्छे काम किए हैं और ‘सबका साथ, सबका विकास' के उनके दर्शन से वह प्रभावित हैं।

‘नये कश्मीर' में हुए विकास की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि इस सरकार ने जम्मू-कश्मीर समेत समाज के हर वर्ग को सशक्त बनाया है, जो बदलाव के दौर से गुजर रहा है। गनई ने कहा कि लोग मोदी और भाजपा को मजबूत करना चाहते हैं। गनई ने पूर्ववर्ती राज्य में एससी, एसटी और ओबीसी को आरक्षण का लाभ देने के लिए सरकार की सराहना की। जम्मू-कश्मीर वर्तमान में एक केंद्र शासित प्रदेश है।

गनई ने आगामी लोकसभा चुनावों का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘हम मोदी की हैट्रिक (जीत की) सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करेंगे।'' उन्होंने कहा कि मोदी की मौजूदगी से यह सुनिश्चित हो गया है कि पाकिस्तान सीमावर्ती इलाकों में समस्या पैदा करने की हिम्मत नहीं कर सकता है और वहां लोग शांति से रहते हैं।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 निरस्त किए जाने के बाद हुए बदलावों की सराहना करते हुए जितेन्द्र सिंह ने कहा कि दो करोड़ से अधिक पर्यटकों ने वहां का दौरा किया। उन्होंने कहा कि जो जम्मू-कश्मीर पहले आतंकवादी घटनाओं के सुर्खियों में रहता था, आज वहां का पर्यटन फल-फूल रहा है। गनई ने साल 2019 में नेकां से इस्तीफा दे दिया था।

पुंछ जिले की रहने वाली शहनाज नेकां के वयोवृद्ध नेता और पूर्व मंत्री गुलाम अहमद गनई की बेटी हैं। उन्हें पीर पंजाल क्षेत्र में अपनी मुखरता के लिए पहचाना जाता है। वह महिलाओं के अधिकारों के लिए पूरे जोर-शोर से आवाज उठाती रही हैं। वह दिसम्बर 2013 में पंचायत कोटा से जम्मू संभाग से जम्मू कश्मीर राज्य विधान परिषद के लिए निर्वाचित हुई थीं। उनका पांच साल का कार्यकाल 2018 में पूरा हुआ था।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Yaspal

Recommended News

Related News