साल 2018 में जब उड़ी थी महाशय धर्मपाल गुलाटी के निधन की अफवाह, लोग देने लगे थे श्रद्धांजलि

2020-12-03T10:59:01.3

नेशनल डेस्क: MDH ग्रुप के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का गुरुवार सुबह निधन हो गया। 98 साल के महाशय धर्मपाल गुलाटी ने दिल्ली के माता चन्नन देवी अस्पताल में अंतिम सांस ली। महाशय धर्मपाल बीमारी के चलते पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने महाशय धर्मपाल के निधन पर दुख जाहिर किया है। 

PunjabKesari

साल 2018 में उड़ी थी निधन की अफवाह
साल 2018 में महाशय धर्मपाल गुलाटी के निधन की अफवाह उड़ी थी। सोशल मीडिया पर यह खबर काफी वायरल हो गई थी। लोगों ने उनको श्रद्धांजलि तक दे दी थी। इतना ही नहीं कई न्यूज चैनल पर यह खबर चल भी पड़ी थी। कंपनी और परिजनों के पास लगातार फोन आने के बाद उनके घर वालों ने एक वीडियो जारी किया जिसमें गुलाटी गायत्री मंत्र का पाठ करते नजर आए थे। महाशय धर्मपाल सामने आए थे और बताया था कि मैं पूरी तरह स्वस्थ हूं।

PunjabKesari

पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित
साल 2019 में महाश्य धर्मपाल गुलाटी को पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनको सम्मानित किया था।

 

सुषमा स्वराज के निधन पर फूट-फूट कर रोए थे महाशय धर्मपाल
भाजपा नेता सुषमा स्वराज के निधन के बाद उनको अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए MDH) के मालिक महाशय धर्मपाल भी पहुंचे थे। धर्मपाल गुलाटी व्हील चेयर पर सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। इस दौरान वे फूट-फूट कर रोए थे। 

PunjabKesari

महाशय धर्मपाल गुलाटी का सफर
महाशय धर्मपाल गुलाटी का जन्म पाकिस्तान के सियालकोट में 27 मार्च, 1923 में हुआ। बंटवारे के बाद उनका परिवार दिल्ली आ गया और यहां मसाले का काम शुरू किया और आज MDH मसाला देश ही नहीं, बल्कि दुनिया में मसालों के लिए जाना जाता है। महाशय धर्मपाल ने 1959 में MDH फैक्ट्री की नींव रखी थी। भारत में उन्होंने 15 फैक्ट्रियां खोलीं, जो करीब 1000 डीलरों को मसाला सप्लाई करती हैं। MDH के दुबई और लंदन में भी ऑफिसेज हैं। यह मसाला कंपनी लगभग 100 देशों से एक्सपोर्ट करती है।


Seema Sharma

Recommended News