हाजी मस्तान के बेटे ने कहा- करीम लाला से मिली थीं इंदिरा, मेरे पिता और बाल ठाकरे दोस्त थे

2020-01-16T20:19:24.267

नेशनल डेस्कः अंडरवर्ल्ड डॉन हाजी मस्तान के दत्तक पुत्र सुंदर शेखर ने शिवसेना नेता संजय राउत के बयान पर कहा कि संजय राउत सही हैं। इंदिरा गांधी उनसे (करीम लाला) मिलती थीं। कई अन्य नेता भी आते थे। हाजी मस्तान एक व्यापारी थे। बालासाहेब ठाकरे भी हाजी के अच्छे दोस्त थे।
PunjabKesari
वहीं, शिवसेना नेता संजय राउत ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गैंगस्टर करीम लाला से मुलाकात वाली अपनी टिप्पणी गुरुवार को वापस ले ली। राउत ने कहा, ‘‘ अगर किसी को लगता है कि मेरे बयान से इंदिरा गांधी की छवि को नुकसान पहुंचा या किसी की भावनाएं आहत हुईं, तो मैं उसे वापस लेता हूं।''

बयान वापस लेने से मामला खत्म: बालासाहेब थोराट
पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गैंगस्टर करीम लाला से मुलाकात के बारे में शिवसेना नेता संजय राउत की टिप्पणी को ‘गलत' बताते हुए महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने गुरूवार को कहा कि इस तरह के बयान बर्दाश्त नहीं किये जाएंगे। कांग्रेस ने इस बारे में अपनी आपत्ति से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भी अवगत करा दिया है। राज्य के राजस्व मंत्री थोराट ने राउत समेत सभी नेताओं को महान नेताओं की आलोचना नहीं करने की चेतावनी दी।

इंदिरा पर मेरी टिप्पणी को तोड़ा-मरोड़ा: राउत
प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पर की गई कथित टिप्पणी को लेकर मचे बवाल के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने गुरुवार को सफाई दी कि मुम्बई के इतिहास की समझ ना रखने वालों ने उनके बयान को ‘‘तोड़-मरोड़'' डाला। राउत के अनुसार, उनके कहने का आशय यह था कि करीम लाला पठान समुदाय के प्रतिनिधि थे और उनकी यही हैसियत उनसे पूर्व प्रधानमंत्री की मुलाकात की वजह थी।

गौरतलब है कि पुणे में लोकमत मीडिया समूह के एक कार्यक्रम के दौरान दिए एक साक्षात्कार में राउत ने दावा किया था, ‘‘ जब (अंडरवर्ल्ड डॉन) हाजी मस्तान मंत्रालय आए थे, तो पूरा सचिवालय उन्हें देखने नीचे आ गया था। इंदिरा गांधी पायधुनी (दक्षिण मुम्बई) में करीम लाला से मिला करती थीं।'' करीम लाला, मस्तान मिर्जा उर्फ हाजी मस्तान और वरदराजन मुदलियार मुम्बई के बड़े माफिया सरगना थे, जो 1960 से लेकर अस्सी के दशक तक सक्रिय रहे।

 


Yaspal

Related News