गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा, ''गांधी के अहिंसा, स्वच्छता के विचारों को आत्मसात करना उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी''

punjabkesari.in Saturday, Oct 02, 2021 - 04:30 PM (IST)

नेशनल डेस्क: देश शनिवार को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 152वीं जयंती मना रहा है और इस अवसर पर नेताओं तथा आम लोगों ने बापू की शिक्षाओं और उनके मूल्यों पर अमल का आह्वान करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने महात्मा गांधी की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और लोगों से बापू के अहिंसा और स्वच्छता के सिद्धांतों को आत्मसात करने की अपील की। पटेल ने पोरबंदर में गांधी जी के पैतृक आवास के पास स्थित स्मारक घर ‘कीर्ति मंदिर' में आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा में शिरकत की।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने लोगों से महात्मा गांधी के अहिंसा और स्वच्छता के आदर्शों को आत्मसात कर उन्हें ‘सच्ची श्रद्धांजलि' देने की अपील की। उन्होंने कहा कि गांधीजी के स्वच्छता के मंत्र के अनुरूप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘स्वच्छ भारत मिशन-शहरी' और कायाकल्प एवं शहरी सुधार के लिए ‘अटल मिशन' के दूसरे चरण की शुक्रवार को शुरुआत की। पटेल ने कहा, ‘‘सतत विकास के माध्यम से गुजरात स्वच्छता और जल आपूर्ति कार्यों में सबसे आगे रहा है'' साथ ही उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि महात्मा गांधी का गुजरात नई ऊंचाइयों को छुएगा।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने राष्ट्रपिता की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने गांधी जी की शिक्षाओं को जीवन में लागू करने की आवश्यकताओं पर जोर दिया,साथ ही कहा कि रोजगार पैदा करने के उनके मंत्र 21वीं सदी में भी प्रासंगिक हैं। बोम्मई ने महात्मा गांधी को उद्धत करते हुए कहा,‘‘ हमें बड़े पैमाने पर उत्पादन की जरूरत नहीं हैं,हमें लोगों द्वारा उत्पादन की जरूरत है।'' बोम्मई ने महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर दोनों नेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा,‘‘ वह सभी के लिए रोजगार चाहते थे, जो 21वीं सदी में भी बहुत प्रासंगिक है। यह मेरा दृढ़ विश्वास है कि अगर हम उनकी विचारधारा को मानते हैं, तो हमारा भविष्य उज्ज्वल रहेगा।''

उन्होंने कहा कि गांधी और शास्त्री जी में बहुत समानताएं थीं, गांधी जी को सत्य पर विश्वास था और शास्त्री जी ने उसे जीवन में उतारा था। पुडुचेरी की उपराज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन और मुख्यमंत्री एन रंगासामी ने महात्मा गांधी की 152वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। मंत्रियों, अधिकारियों और विधायकों ने भी पुडुचेरी के बीच रोड स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर पुडुचेरी सरकार द्वारा संचालित भारथिअर पालकलाईकूडम (एक बहुसांस्कृतिक संस्थान) में भक्ति गीत प्रस्तुत किए गए। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने शनिवार को महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि सांप्रदायिक ताकतें भारत के उनके दृष्टिकोण को ध्वस्त न करें।

विजयन ने तिरुवनंतपुरम के पूर्वी किले में गांधी पार्क के अंदर गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। उन्होंने ट्वीट किया,‘‘ महात्मा गांधी ने भारत को एक सच्चे लोकतंत्र के रूप में देखा था, जहां सभी के साथ उनके धर्म, जाति और पंथ से परे समान व्यवहार किया जाता है। आज, आइए उनके सपने को पूरा करने के लिए एक साथ खड़े हों और सुनिश्चित करें कि सांप्रदायिक ताकतें हमारी विरासत को ध्वस्त नहीं करें।'' तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन, हरियाणा के उनके समकक्ष बंडारू दत्तात्रेय और अन्य नेताओं ने महात्मा गांधी की 152वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। सुंदरराजन, दत्तात्रेय, मोहम्मद महमूद अली और के टी रामाराव सहित राज्य के कई मंत्रियों ने हैदराबाद में ‘बापू घाट' का दौरा किया और उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Hitesh

Related News

Recommended News