महामारी से राहत के बाद त्यौहारों के सीजन में जमीन और आसमान में यात्रियों की उमड़ी भारी भीड़

10/12/2021 11:19:28 AM

नेशनल डेस्क; त्योहारों के सीजन में घरेलू हवाई और रेलवे यात्रा तेजी से वृद्धि हुई है। आलम यह है कि जमीन और हवाई सफर के लिए लोगों की बुकिंग के लिए भारी भीड़ उमड़ रही है। अक्टूबर में रेल बुकिंग ने पूर्व-कोविड -19  के स्तरों को पार कर लिया है। यही नहीं महामारी की दूसरी लहर के बाद हवाई यात्रा की मांग भी उछाल देखने को मिला है। भारतीय रेलवे के आंकड़ों के अनुसार इस साल अक्टूबर के पहले आठ दिनों में शुद्ध यात्री बुकिंग (आरक्षित) 225.95 लाख रही, जो 2019 की समान अवधि में 130 लाख बुकिंग से लगभग 74 फीसदी अधिक है। 8 अक्टूबर तक भारतीय रेलवे प्रतिदिन औसतन 1701 मेल / एक्सप्रेस ट्रेनें चला रहा था। इनमें हॉलिडे स्पेशल भी शामिल हैं, जो कि पूर्व-कोविड -19 की औसत 1,768 ट्रेनों से थोड़ा ही पीछे है। घरेलू हवाई यात्रा में भी भारी वृद्धि हुई है, नवरात्रों के दौरान रोजाना औसतन 3 लाख यात्री सफर कर रहे हैं।  

दैनिक औसत आरक्षण 13 लाख के पार
ऑनलाइन रेलवे टिकट बुकिंग सेवाओं की पेशकश करने के लिए अधिकृत एकमात्र संस्था इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन  ने भी अक्टूबर के पहले सप्ताह में औसत दैनिक आरक्षण 13 लाख को पार कर लिया है, जबकि पूर्व-कोविड-19 औसत प्रतिदिन 9 लाख आरक्षण था। आई.आर.सी.टी.सी. के एक अधिकारी ने कहा कि त्योहारी सीजन की शुरुआत के साथ औसत दैनिक आंकड़ा बढ़कर 14 लाख आरक्षण होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि हमने हाल ही में उन टूअर पैकेजों को बहाल किया है जिनकी महामारी से पहले पेशकश की गई थी। प्रारंभ में, लेह, लद्दाख, कश्मीर, गोवा और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के लिए पैकेजों की अच्छी मांग थी। हम वर्तमान में अवकाश पर्यटन से तीर्थ पर्यटन की ओर थोड़ा बदलाव देख रहे हैं। अधिकारी ने कहा कि जब कंपनी ने 'रामायण यात्रा ट्रेन यात्रा' शुरू करने की घोषणा की, तो पांच दिनों के भीतर पूरी ट्रेन बुक हो गई। मजबूत मांग के चलते इस दौरे के लिए तीन अतिरिक्त ट्रेनें चलाने का फैसला लिया है।

करीब 3 लाख लोग रोजाना कर रहे हैं हवाई यात्रा
यह वृद्धि हवाई यात्रा में एक और ऐतिहासिक उपलब्धि के साथ मेल खाती है। शनिवार, 9 अक्टूबर को भारत में घरेलू मार्गों पर हवाई यात्रियों ने 3 लाख का आंकड़ा पार कर लिया है। एविएशन एनालिसिस ब्लॉग नेटवर्क थॉट्स के संस्थापक अमेया जोशी कहते हैं कि  9 अक्टूबर को 3,04,020 यात्रियों हवाई सफर किया जो महामारी के आंकड़े का 71.5 फीसदी है।  पिछली बार 3,00,000 का आंकड़ा 28 फरवरी 2021 को पार किया गया था। पिछले शुक्रवार को मुंबई में अराजक दृश्यों के बाद, दिल्ली और मुंबई दोनों ने यातायात में गिरावट के कारण बंद किए गए यात्री टर्मिनल भवनों को फिर से खोलने के अपने निर्णय की घोषणा की थी। मुंबई ने टर्मिनल 2 को 20 अक्टूबर के बजाय 13 अक्टूबर से फिर से खोलने का फैसला किया और दिल्ली हवाई अड्डे ने कहा कि वह 1 नवंबर से टर्मिनल 1 से उड़ानें फिर से शुरू करेगा। मई 2020 के बाद यह पहली बार है जब दिल्ली ने टर्मिनल 1 को फिर से खोलने का फैसला किया है।

किराए में ऐसे मिलेगी छूट
सरकार ने भी हाल ही में न्यूनतम और अधिकतम किराए की सीमा को हटाने का फैसला किया है। यदि आप पहले से अच्छी तरह से बुकिंग करते हैं, तो हवाई किराए में कमी आती है। एयरलाइनों ने मांग को और बढ़ाने और अग्रिम बुकिंग से राजस्व बढ़ाने के लिए अपने विमान को भरने की योजना तैयार की है। उदाहरण के तौर पर 11 अक्टूबर को दिल्ली-बेंगलुरु की उड़ान की कीमत 7,422 रुपये है, जिसकी कीमत 11 नवंबर को बुक करवाने पर 3,170 रुपये है। मुंबई-अहमदाबाद की उड़ान की कीमत 4,262 रुपए है, अब से एक महीने की बुकिंग में  मात्र 1,760 रुपए खर्च होंगे। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Recommended News