संसद की पुरानी इमारत असुरक्षित, नए भवन और सेंट्रल विस्टा का निर्माण समय पर पूरा होगा: हरदीप पुरी

10/09/2021 6:57:41 PM

नेशनल डेस्क: केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने शनिवार को कहा कि संसद की एक नई इमारत के निर्माण और राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक ‘सेंट्रल विस्टा एवेन्यू' का पुनर्विकास समयबद्ध तरीके से पूरा किया जाएगा। यह दोनों परियोजनाएं मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास योजना के तहत चल रही हैं।

वर्तमान संसद भवन “असुरक्षित”
संसद की नई इमारत की जरूरत पर बल देते हुए केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री ने कहा कि वर्तमान संसद भवन “असुरक्षित” है और जब उसका निर्माण हुआ था, तब वह भूकंप के खतरे वाले ‘सिस्मिक जोन दो' में था लेकिन अब वह क्षेत्र ‘सिस्मिक जोन चार' में है। ‘इंडिया टुडे कन्क्लेव 2021' में एक सवाल के जवाब में पुरी ने कहा कि वर्तमान इमारत में और अधिक सांसदों के बैठने के लिए जगह नहीं है और इसका निर्माण कभी ‘संसद' के तौर पर नहीं किया गया था और यह औपनिवेशिक ताकतों का काउन्सिल हाउस था। उन्होंने कहा, “देश जब से स्वतंत्र हुआ है, तब से संसद सदस्यों की संख्या बढ़ती जा रही है।

इसलिए बहुत से आंतरिक बदलाव हुए हैं और नई सुविधाएं दी जा रही हैं। ढांचे के हिसाब से देखें तो यह एक असुरक्षित भवन है।” पुरी ने कहा, “जब यह इमारत बनी थी तब सिस्मिक जोन दो में थी और आज वह क्षेत्र सिस्मिक जोन चार में है। यह कोई अतिशयोक्ति नहीं है। हम परेशानी नहीं बढ़ाना चाहते लेकिन आपको पता है कि आप सीमा से आगे बढ़ रहे हैं।” सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना के तहत संसद की नई इमारत का निर्माण होना है, एक केंद्रीय सचिवालय बनना है, राष्ट्रपति भवन से राजपथ तक तीन किलोमीटर तक के क्षेत्र का पुनर्निर्माण किया जाना है। इसके अलावा प्रधानमंत्री का नया आवास और कार्यालय तथा नया उपराष्ट्रपति ‘एन्क्लेव' बनाया जाना है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Related News

Recommended News