छत्तीसगढ़ नक्सली हमला: अफसरों को पहले से था बड़ी वारदात का अंदेशा, फिर भी हुई चूक

2021-04-05T12:42:30.917

नेशनल डेस्क: छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के सघन जंगल में नक्सलियों के हमले में 22 जवान शहीद हुए और 31 घायल हैं, जिनका इलाज चल रहा है। एक जवान अब भी लापता है। क्षेत्र में जिला रिजर्व पुलिस बल, स्पेशल टास्क फोर्स, कोबरा बटालियन और केन्द्रीय सुरक्षा बल के जवानों की संयुक्त टीम नक्सलियों की तलाश में पहुंची थी। पहाड़ी क्षेत्र में शनिवार इस इलाके में मुठभेड़ शुरू हुई, जो तीन से चार घंटे तक चली। शहीद जवानों में जिला रिजर्व पुलिस बल के 08, स्पेशल टास्क फोर्स के 06, कोबरा बटालियन के 07 तथा बस्तर बटालियन का 01 जवान शामिल है। कोबरा 210 बटालियन का जवान राकेश सिंह लापता है, जिसकी तलाश की जा रही है।

PunjabKesari

पुलिस महानिरीक्षक ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बल द्वारा भी नक्सलियों को भारी नुकसान पहुंचाया गया है। एक महिला माओवादी कमांडर का शव, इन्सास रायफल के साथ बरामद किया गया, जिसकी शिनाख्त माड़वी वनोजा के नाम से हुई। उन्होंने दावा किया है कि इस मुठभेड़ में 12 माओवादी नक्सलियों के मारे जाने की खबर है तथा 16 से अधिक माओवादी गंभीर रूप से घायल हैं। मारे गए माओवादी और घायलों को नक्सली अपने साथ ले जाने में सफल रहे। सुरक्षा बलों पर इतना बड़ा हमला सुरक्षा तंत्र पर बड़ा सवाल है। 

PunjabKesari

अफसरों को पहले से था बड़ी वारदात का अंदेशा
मुठभेड़ के बाद जो जानकारी सामने आ रही है, उसके अनुसार अफसरों को पहले से यह अंदेशा था कि नक्सली किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। बीजापुर-सुकमा जिले के सरहदी इलाका जोनागुड़ा नक्सलियों का मुख्य इलाका है। यहां बड़ी संख्या में हथियारों से लैस नक्सली रहते हैं। पूरे इलाके की कमान महिला नक्सली सुजाता के हाथों में है। खुफिया इनपुट थे कि नक्सली कमांडर हिडमा और उसके खूंखार साथी छत्तीसगढ़ के बीजापुर में पिछले कई दिनों से कैंप कर रहे हैं। सुरक्षाबलों ने इस बात को लेकर अलर्ट जारी किया था कि ये नक्सली अपने गुरिल्ला साथियों के साथ सुरक्षाबलों और पेट्रोलिंग पार्टी पर हमला कर सकते हैं।

PunjabKesari

बस उड़ाने के बाद पुलिस कार्रवाई से बौखला गए नक्सली
12 दिन के अंदर नक्सलियों ने दूसरी बड़ी घटना को अंजाम दिया है। 23 मार्च को नारायणपुर में IED से नक्सलियों ने जवानों की बस उड़ा दी थी। इसमें 5 जवान शहीद हो गए थे। साथ ही 10 जवान जख्मी हुए थे। उसके बाद से नक्सल प्रभावित इलाकों में सर्च ऑप्रेशन तेज कर दिया गया था। इसके साथ ही कुछ दिन पहले महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हुई मुठभेड़ में भी कुछ नक्सली मारे गए थे। नक्सली पुलिसिया कार्रवाई तेज होने से बौखला गए थे। 

 

राष्ट्रीय विशेष सुरक्षा सलाहकार का 10 दिन से इसी इलाके में डेरा
राष्ट्रीय विशेष सुरक्षा सलाहकार के. विजय कुमार पिछले 10 दिनों से बस्तर इलाके में कैंप कर रहे हैं। उसके बावजूद नक्सलियों ने 2 बड़ी घटनाओं को अंजाम दिया। के. विजय कुमार को विशेष रूप से बस्तर के इलाके में नक्सलवाद खत्म करने के लिए तैनात किया गया है।

PunjabKesari

ये जवान हुए शहीद
छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सली हमले में शहीद होने वाले जवानों की सूची इस प्रकार है- 
छत्तीसगढ़ पुलिस से संबद्ध जिला रिजर्व गार्ड (डी.आर.जी.) के जवान

  • 1. दीपक भारद्वाज, उप निरीक्षक
  • 2. रमेश कुमार जुर्री, हैड कांस्टेबल
  • 3. नारायण सोढी, हैड कांस्टेबल
  • 4. रमेश कोरसा, कांस्टेबल
  • 5. सुभाष नाइक, कांस्टेबल
  • 6. किशोर अंदरिक, सहायक कांस्टेबल
  • 7. संकुराम सोढी, सहायक कांस्टेबल
  • 8. भोसाराम करतामी, सहायक कांस्टेबल विशेष कार्य बल (एस.टी.एफ.) के जवान
  • 9. श्रवण कश्यप, हैड कांस्टेबल
  • 10. रामदास कोर्राम, कांस्टेबल
  • 11. जगतराम कंवर, कांस्टेबल
  • 12. सुखसिंह फरास, कांस्टेबल
  • 13. रामाशंकर पैकरा, कांस्टेबल
  • 14. शंकरनाथ, कांस्टेबल सी.आर.पी.एफ.) की विशेष इकाई ‘कोबरा’ के जवान
  • 15. दिलीप कुमार दास, निरीक्षक
  • 16. राजकुमार यादव, हैड कांस्टेबल
  • 17. शंभू राय, कांस्टेबल
  • 18. धर्मदेव कुमार, कांस्टेबल
  • 19. एस.एम. कृष्णा, कांस्टेबल
  • 20. आर. जगदीश, कांस्टेबल
  • 21. बबलू राधा, कांस्टेबल (बस्तरिया बटालियन)     
  • 22. समैया मरावी, कांस्टेबल

Content Writer

Seema Sharma

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static