पूजा.... हंगामा....निराशा,  कुछ ऐसा था बजट से पहले और बाद का नजारा

2021-02-01T16:58:35.77

नेशनल डेस्क: 1 फरवरी 2021 की शुरुआत कई उम्मीदों के साथ हुई। आज पूरा देश बजट पर टकटकी लगाए बैठा था।बजट पेश किए जाने से पहले केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने अपने घर पर हनुमान जी की पूजा की। इसके बाद वह वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ संसद पहुंचे।

PunjabKesari

पिछले बार की तरह इस बार भी निर्मला सीतारमण की साड़ी खूब चर्चा में रही। कहा जाता है कि लाल साड़ी का काफी महत्व है. इसे पवित्र मौकों पर या धार्मिक अनुष्ठानों पर पहना जाता है। जैसे ही वित्त मंत्री ने वर्ष 2021-22 के लिये प्राप्तियों और खर्च का लेखाजोखा पेश किया ताे पूरा देश टीवी के सामने आकर बैठ गया।

PunjabKesari

सीतारमण ने इस बार बजट भाषण कागजी दस्तावेज के बजाय टैबलेट से पढ़ा। बजट प्रस्ताव पढ़ने के बाद वित्त मंत्री ने मध्यावधि राजकोषिय नीति रणनीति वक्तव्य और बृहद आर्थिक रूपरेखा वक्तव्य पेश किया ।इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिये स्थगित कर दी ।

PunjabKesari

जब वित्त मंत्री बजट पेश कर रही थीं, शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल, सुखवीर बादल, आम आदमी पार्टी के भगवंत मान और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के हनुमान बेनीवाल ने तीन हालिया कृषि कानूनों को लेकर विरोध दर्ज कराया। 

PunjabKesari

सदन में पहुंचने से पहले इन सांसदों ने लोकसभा परिसर में भी नारेबाजी की और कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की। ये सांसद इन कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए पिछले करीब दो महीनों से दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। 

PunjabKesari

बजट भाषण में आस्ट्रेलिया में भारतीय क्रिकेट टीम की ऐतिहासिक टेस्ट जीत का जिक्र भी हुआ। निर्मला सीतारमण ने अपने भाषण में कहा कि एक क्रिकेट प्रेमी देश की नागरिक होने के नाते मैंने आस्ट्रेलिया में भारत की ऐतिहासिक जीत पर अपार प्रसन्नता का अनुभव किया । उन्होंने कहा कि इसमें वह सारे गुण थे जो हम में खासकर हमारे युवाओं में परिलक्षित होते हैं ।

PunjabKesari
कोरोना के बाद आए इस पहले बजट में स्वास्थ्य और शिक्षा पर तो सरकार की नजर रही लेकिन कोरोना की मार झेल रहे व्यपारियों को इस बजट से निराशा ही हाथ लगी। टैक्स स्लैब में बदलाव नही होने के कारण मिडिल क्लास और व्यवसायी खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं।

PunjabKesari
 लंबे समय से अपनी सैलरी की बढ़ोतरी का इंतजार कर रहे 50 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को इस बजट से काफी उम्मीदें थी। 


Content Writer

vasudha

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News