ठाकरे ने नयी सरकार से आरे में मेट्रो कार शेड नहीं बनाने की अपील की

punjabkesari.in Friday, Jul 01, 2022 - 09:58 PM (IST)

मुंबई, एक जुलाई (भाषा) महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को राज्य की नयी सरकार से अपील की कि वह मुंबई के हरे-भरे आरे कॉलोनी इलाके में मेट्रो कार शेड बनाने की अपनी योजना को आगे नहीं बढ़ाए।

सत्ता में आने के बाद अपने पहले फैसलों में से एक में एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार ने विवादास्पद आरे कॉलोनी कार शेड परियोजना पर आगे बढ़ने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के दो दिन बाद शिवसेना मुख्यालय में ठाकरे ने संवाददाताओं से कहा कि जैसा कि उनकी सरकार ने प्रस्ताव दिया था कि कार शेड स्थल को आरे कॉलोनी से कांजुरमार्ग में स्थानांतरित किया जा सकता है।

ठाकरे ने कहा, ‘‘मैं बहुत निराश हूं। अगर आप मुझ पर नाराज हैं, तो इसे जाहिर करो, लेकिन मुंबई के दिल में छुरा मत मारो। मैं बहुत परेशान हूं कि आरे संबंधी फैसले को उलट दिया गया है। यह निजी संपत्ति नहीं है।’’
वर्ष 2019 में सत्ता में आने के बाद ठाकरे ने पूर्ववर्ती देवेंद्र फडणवीस नीत सरकार के संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान से सटे वन क्षेत्र आरे कॉलोनी में कार शेड बनाने के फैसले को रद्द करने का फैसला किया। पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने आरे में कार शेड के लिए पेड़ काटने का पुरजोर विरोध किया था। ठाकरे नीत सरकार ने आरे को सुरक्षित वन क्षेत्र भी घोषित कर दिया था।

शिवसेना प्रमुख ने कहा, ‘‘मैंने निर्णय पर रोक लगा दी थी। मैंने कांजूर का विकल्प दिया (वैकल्पिक स्थल के रूप में)। मैं पर्यावरणविदों के साथ हूं।’’
ठाकरे नीत सरकार द्वारा कार शेड के लिए निर्धारित कांजूर स्थल विवादित भूमि है क्योंकि केंद्र और राज्य सरकार के अलावा कई निजी कंपनियों ने इस पर दावा किया है।

वन्यजीव फोटोग्राफी का शौक रखने वाले ठाकरे ने यह भी कहा कि जब फडणवीस नीत सरकार के समय में कार शेड बनाने के लिए आरे कॉलोनी में पेड़ काटे जा रहे थे, तब इलाके में खुलेआम घूमते हुए तेंदुओं की तस्वीरें सामने आई थीं। उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि यह क्षेत्र वन्य जीवन के मामले में बेहद समृद्ध है।

ठाकरे ने कहा कि उनकी आशंका यह है कि जब आरे कॉलोनी में कार शेड के कारण लोगों की बड़े पैमाने पर आवाजाही होगी है, तो इससे आसपास के वन्यजीवों को नुकसान होगा।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News