POK में पाक की बड़ी साजिश, J&K में हमले करने की फिराक में 250 आतंकवादी

2020-02-19T13:42:04.257

जम्मू: पाकिस्तान भारत में गड़बड़ कराने की आतंकी साजिशों से बाज नहीं आ रहा है। अब पाकिस्तान के कर्नल रैंक के सेना अधिकारियों की निगरानी में आतंकवादियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। खबरों की मानें तो करीब 250 आतंकवादी भारत में घुसपैठ की तैयारी में है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक POK में भारतीय सीमा के साथ लगते क्षेत्रों में 20 लॉन्च पैड पर 250 आतंकवादी सक्रिय है। इस साजिश का मतलब जम्मू-कश्मीर में बड़े पैमाने पर हिंसा करना व सुरक्षाबलों पर हमला करना है।

PunjabKesari

POK में लॉन्च पैड आतंकियों से भरे: जनरल ढिल्लों
वहीं इससे पहले सेना के एक वरिष्ठ कमांडर ने यहां कहा कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में आतंकी ‘लॉन्च पैड' आतंकवादियों से पूरी तरह भरे हैं लेकिन उन्हें संघर्षविराम उल्लंघन की आड़ में भारत में घुसाने के पाकिस्तानी सेना के प्रयासों को कड़ा कार्रवाई के रुप में जवाब दिया जा रहा है। लेफ्टिनेंट जनरल कंवलजीत सिंह ढिल्लों को विश्वास है कि आतंकवादियों को घाटी में घुसाने और शांति में खलल डालने के प्रयासों में पाकिस्तान सफल नहीं हो पाएगा। ढिल्लों कश्मीर स्थित 15वीं कोर की रणनीतिक कमान के मुखिया हैं। उन्होंने कहा, ‘सुरक्षाबलों ने मत निर्माताओं और नागरिक संस्थाओं के परामर्शदाताओं सहित विभिन्न पक्षों के साथ समन्वय से काम कर कश्मीर घाटी में शांति को सुदृढ़ किया है।' 

PunjabKesari

एक सवाल के लिखित जवाब में लेफ्टिनेंट जनरल ढिल्लों ने पाकिस्तान के परोक्ष युद्ध के इतिहास के बारे में बात की और कहा कि पड़ोसी देश 30 साल से अधिक समय से लगातार आतंकियों की भारत में घुसपैठ में मदद करता रहा है। ढिल्लों ने कहा, ‘पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सभी आतंकी शिविर और लॉंच पैड पूरी तरह भरे हैं। ये आतंकी कैडर हमारी चौकियों पर गोलीबारी करने वाली पाकिस्तानी सेना की मदद से घुसपैठ करना चाहते हैं।' उन्होंने कहा संघर्षविराम उल्लंघन पर हमारा मुंहतोड़ जवाब त्वरित, कठोर और दंडात्मक रहा है। 

PunjabKesari

ढिल्लों ने कहा कि जम्मू कश्मीर पुलिस, अर्धसैनिक बलों और गुप्तचर एजेंसियों की मदद से नियंत्रण रेखा और क्षेत्र के भीतर आतंकवाद को विफल करना सेना का मुख्य दायित्व है। उन्होंने नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना के दबदबे का उल्लेख किया और कहा कि भीतरी क्षेत्र में लोगों के साथ मित्रवत तरीके के साथ प्रभावी आतंकवाद रोधी अभियानों से घाटी में स्थिति में सुधार हुआ है। ढिल्लों ने कहा कि अभियानगत सफलताओं, सुधरती सुरक्षा स्थिति और विभिन्न सरकारी पहलों से स्थानीय कारोबार, पर्यटन और शिक्षा क्षेत्र को काफी लाभ होगा।


Author

rajesh kumar

Related News