खालिस्तानी समर्थकों के खिलाफ NIA की बड़ी कार्रवाई, 12 आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर

punjabkesari.in Wednesday, Mar 22, 2023 - 04:14 PM (IST)

श्रीनगर: राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) ने खालिस्तान समर्थक संगठनों और पाकिस्तान में रहने वाले षड्यंत्रकारियों के साथ कथित रूप से संबंध रखने वाले 12 लोगों के खिलाफ मंगलवार को पहला आरोप पत्र दायर किया। एजेंसी आतंकवाद-गैंगस्टर गठजोड़ के तीन मामलों की जांच कर रही है। इनमें से एक मामले में यह आरोप पत्र दायर किया गया है। संघीय एजेंसी के एक प्रवक्ता ने कहा कि एजेंसी आतंकवाद से जुड़ी साजिश में भूमिका को लेकर 10 और लोगों के खिलाफ जांच कर रही है, जिनमें कुछ नेताओं, गायकों और कारोबारियों की हत्या करने का षड्यंत्र शामिल है, ताकि लोगों को डराया जा सके और उनसे पैसों की उगाही की जा सके और सनसनी पैदा की जा सके।

 

अधिकारी ने बताया कि तहकीकात में सामने आया है कि आरोप में नामजद किए गए लोगों के प्रतिबंधित खालिस्तान टाइगर फोर्स और इसके सदस्य अर्शदीप सिंह गिल उर्फ अर्श डाला से संबंध हैं। गिल को ‘आतंकवादी' घोषित किया गया है। प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान में रहने वाले षड्यंत्रकारियों के साथ संपर्क में होने के अलावा आरोपी कनाडा और अन्य देशों में रहने वाले खालिस्तान समर्थक तत्वों के भी संपर्क में थे। यहां एक अदालत में दायर किए गए आरोप पत्र में गिल, गौरव पटयाल, सुखप्रीत बुद्धा, कौशल चौधरी, अमित डागर, नवीन बाली, छोटू भट, आसिफ खान, जग्गा तख्तमल, टिल्लू ताजपुरिया, भूपी राणा और संदीप बंदर के नाम हैं।

 

प्रवक्ता के मुताबिक, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में 91 स्थानों पर छह महीने के दौरान छापेमारी और विभिन्न संगठित अपराध समर्थक नेटवर्क के 100 से ज्यादा सदस्यों से पूछताछ के बाद यह आरोप पत्र दायर किया गया है। एनआईए ने कहा कि उसने गिरोह के सदस्यों को शरण देने और उनके लिए हथियार जमा करने के लिए हरियाणा और पंजाब में विभिन्न स्थानों पर बनाए गए ठिकानों का भी पता लगाया है। उन्होंने बताया कि इन छापों में करीब 20 हथियार, 527 कारतूस, 195 डिजिटल उपकरण और 281 दस्तावेज़ जब्त किए गए हैं।

 

अधिकारी ने कहा, "ये गिरोह लक्षित हत्याओं को अंजाम देने की साजिश रच रहे थे और आतंकवादियों, गैंगस्टर, मादक पदार्थ तस्करों और उनके नेटवर्क के बीच गहरी साजिश के तहत आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए धन जुटा रहे थे और वे देश के भीतर और बाहर दोनों जगह से काम कर रहे थे।” इस बीच, एनआईए ने जम्मू कश्मीर आतंकी साज़िश मामले में प्रतिबंधित संगठन हिज़्ब-उल-मुजाहिदीन के एक मददगार के खिलाफ सोमवार को पहला पूरक आरोप पत्र दायर किया।

 

एजेंसी ने बताया कि आरोप पत्र सोपोर के रहने वाले मोहम्मद रफी नजर के खिलाफ दायर किया गया है, जो समूह के आतंकवादी इम्तियाज़ कंडू उर्फ ‘फयाज' का करीबी है। प्रवक्ता के मुताबिक, यह आरोप पत्र भारतीय दंड संहिता और गैर कानूनी गतिविधि रोकथाम कानून के तहत यहां एक विशेष अदालत में दायर किया गया है। प्रवक्ता ने बताया कि नजर हस्तशिल्प के सामान का कारोबारी है और नेपाल के पोखरा में रहता था और वह कश्मीरी हस्तशिल्प के वैध कारोबार की आड़ में आतंकी संगठनों के लिए धन जुटा रहा था।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Related News

Recommended News