कश्मीर में हिज्बुल के आतंकवादी ने किया आत्मसमर्पण, सामान्य जिंदगी जीने का लिया फैसला

2019-12-08T11:54:18.63

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) को शनिवार को उस समय एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी जब हिज्बुल मुजाहिदीन के एक वांछित आतंकवादी ने आत्मसमर्पण कर दिया। बीएसएफ के प्रवक्ता ने  बताया कि हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी ने कश्मीर फ्रंटियर के इंस्पेक्टर जनरल के समक्ष सुबह करीब नौ बजे आत्मसमर्पण कर पुरानी सामान्य जिदंगी जीने का फैसला लिया है। आतंकवादी की पहचान पुलवामा जिले में ब्राव बंदिना गांव निवासी मुज़फर अहमद के रूप में हुई है। 

PunjabKesari

उन्होंने बताया कि पुलवामा के दरबगाम में 25 नवंबर को सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ के सिलसिल में उसकी तलाश की जा रही थी जिसमें दो आतंकवादी अहम शेख और इरफान अहमद को सुरक्षा बलों ने मार गिराया था। उन्होंने बताया कि जिस वाहन में आतंकवादी आए थे उसका चालक मुजफर था। प्रवक्ता ने कहा इससे पहले मुजफर आतंकवादी संगठन लश्कर-ए- तैयबा से जुड़े होने के चलते वर्ष 2010 में भी गिरफ्तार किया गया था और उस दौरान उसे कठुआ की जेल में करीब आठ महीनों के लिए रखा गया था।

PunjabKesari

उन्होंने बताया कि करीब दो महीने पहले इस आतंकवादी को इसी मामले में फिर से गिरफ्तार किया था और अनंतनाग की मट्टन केहरिबल कल में आठ से दस महीने के लिए रखा गया था। आतंकवादी को वर्ष 2016 में पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया गया था। उन्होंने बताया कि मुजफर के परिवार में मां, पत्नी और छह साल का बेटा और चार वर्ष की एक बेटी है। 

PunjabKesari


Author

rajesh kumar

Related News