हंटर बाइडन के लैपटॉप से जुड़े विवाद के केंद्र में आये भारतीय मूल के दो अमेरिकी

punjabkesari.in Saturday, Dec 03, 2022 - 05:35 PM (IST)

वाशिंगटन, तीन दिसंबर (भाषा) भारतीय मूल के दो अमेरिकी-- सांसद रो खन्ना और विजया गड्डे--राष्ट्रपति जो बाइडन के बेटे हंटर बाइडन के लैपटॉप से जुड़े विवाद के केंद्र में आ गये हैं। इस बीच, ट्विटर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) एलन मस्क ने ऐलान किया है कि वह माइक्रोब्लॉगिंग साइट पर इस पूरे प्रकरण का खुलासा करेंगे।

मस्क ने शुक्रवार को दावा किया था कि हंटर बाइडन के लैपटॉप के बारे में ‘न्यूयार्क पोस्ट’ ने जो विवादास्पद खबर प्रकाशित की थी, उसे ट्विटर ने ‘दबा’ दिया था। उन्होंने कहा कि अब वह उसका विवरण जारी करेंगे।

उन्होंने यह भी ट्वीट किया कि यह ‘‘शानदार’’ होगा और इस विषय पर ‘‘सीधा प्रसारण वाला प्रश्नोत्तर’’ होगा। दुनिया के सबसे अधिक धनी व्यक्ति मस्क ने पिछले महीने ही ट्विटर को खरीदा है। वर्ष 2020 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से पहले प्रकाशित हुई उक्त खबर में हंटर के लैपटॉप से हासिल किये गये ई-मेल की विषय वस्तु होने का दावा किया गया था। अखबार ने कहा कि उसे यह पता चला है कि व्हाइट हाउस में डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व मुख्य रणनीतिकार स्टीव बैनन ने ये ईमेल भेजे थे और ये ईमेल ट्रंप के तत्कालीन निजी वकील रूडी गियुलियानी से हासिल किये गये थे।

ट्विटर ने शुरूआत में इस खबर के प्रसार को यह कहते हुए सीमित कर दिया था कि इसके फलस्वरूप विदेशी दुष्प्रचार अभियान शुरू हो जाएगा। लेकिन सोशल मीडिया कंपनी (ट्विटर) ने अपनी प्रतिक्रिया पर शीघ्र ही अपने कदम पीछे खींच लिए। वहीं, तत्कालीन सीईओ जैक डोरसी ने ‘लिंक’ को बाधित करने के फैसले को ‘अस्वीकार्य’ बताया था।

खन्ना डेमोक्रेटिक सांसद हैं और वह प्रतिनिधि सभा (हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव) में सिलिकन वैली का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, जबकि गड्डे ने ट्विटर के नये मालिक मस्क द्वारा अपनी बर्खास्तगी किये जाने से पहले माइक्रो ब्लॉगिंग साइट की कानून एवं नीति प्रमुख के रूप में सेवा दी।

आरोपों के सिलसिले में, ट्विटर के साथ आंतरिक बातचीत के बारे में लेखक मैट टैब्बी द्वारा जारी सिलसिलेवार ट्वीट में कहा गया है कि 2020 के चुनाव के दौरान सोशल मीडिया मंच ने हंटर के लैपटॉप से जुड़ी खबरों और सूचनाओं को दबा दिया।

टैब्बी द्वारा जारी सूचना के अनुसार, ऐसा जान पड़ता है कि खन्ना ने हंटर के लैपटॉप पर न्यूयार्क पोस्ट की रिपोर्ट की ‘लिंक’ तक पहुंच को सीमित करने के ट्विटर के फैसले पर सवाल उठाया।

मस्क ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘ रो खन्ना महान हैं। ’’ खन्ना ने गड्डे को भेजे गोपनीय ईमेल में ट्विटर के तथाकथित ‘सेंसरशिप’ का विरोध किया था।

खन्ना ने गड्डे से कहा,‘‘ मैं बाइडन के पूर्ण समर्थक के तौर यह कहता हूं और मानता हूं कि उन्होंने कुछ गलत नहीं किया। लेकिन अब यह विषय ईमेल से अधिक सेंसरशिप के बारे में हो गया है और यह पहले की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो गया है।’’ खन्ना ने गड्डे को लिखा, ‘‘ राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार अभियान के दौरान अखबार की रिपोर्ट (भले ही न्यूयार्क पोस्ट धुर दक्षिणपंथी हो) के प्रसार को बाधित करने से ऐसा प्रतीत होता है कि यह अच्छा करने के बजाय कहीं अधिक आलोचना को जन्म देगा।’’ खन्ना ने गड्डे से उनके ईमेल की विषय वस्तु साझा नहीं करने का अनुरोध किया था। गड्डे ने खन्ना को भेजे जवाब में ट्विटर की नीति और न्यूयार्क पोस्ट के फैसले का बचाव किया।

यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News