See More

एक्सपर्ट का दावाः ऑस्ट्रेलिया की आग में 80 हजार कोआला जलकर खाक, अरबों प्रजातियां खत्म

2020-01-19T17:35:03.233

कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग में तकरीबन अरबों प्रजातियां जलकर नष्ट हो चुकी हैं। यह दावा है सिडनी यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ लाइफ एंड एनवायरनमेंट साइंसेिज में टेरेस्ट्रियल इकोलॉजी के प्रोफेसर और ऑस्ट्रेलियन एकेडमी ऑफ साइंस के फेलो क्रिस्टोफर डिकमैन का दावा है कि ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग में तकरीबन अरबों प्रजातियां जलकर नष्ट हो चुकी हैं।डिकमैन ने इस बात पर चिंता जताई कि क्लाइमेट चेंज के चलते इंसानों पर जो प्रभाव पड़ रहा है उसका असर कहीं ज्यादा घातक है।

 

डिकमैन ने कहा कि मैं अब भी इस पर काम कर रहा हूं और मेरा मानना है कि सैकड़ों अरब प्रजातियों को नुकसान पहुंचा है। इसमें शक की गुंजाइश नहीं है। न्यू साउथ वेल्स से 80, 000 कोआला आग में जलकर खाक हो गए। ये आंकड़े और भी बढ़ सकते हैं। पौधों की लंबी रेंज है, जैसे ऑर्चिड की खास प्रजातियां हैं, जो छोटे-छोटे इलाकों में ही केवल पाए जाते हैं, आग से खत्म हो गए। उन्होंने कहा कि ऐसी प्रजातियां खत्म हुई हैं, जो केवल ऑस्ट्रेलिया में ही पाई जाती थीं। इनके खत्म होने का मतलब ये है कि ये ग्लोबल नुकसान है क्योंकि ये प्रजातियां दुनिया में और कहीं पाई ही नहीं जाती थी। प्रकृति में इनका योगदान था। इकोसिस्टम पर इसका बुरा असर पड़ेगा।

 

डिकमैन ने कहा कि हम पिछले कुछ समय से ये आकलन कर रहे थे कि क्लाइमेट चेंज की वजह से दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में गर्मी बढ़ती जा रही है और नमी खत्म हो रही है। तमाम जगहों पर अत्यधिक ठंड या अत्यधिक गर्म मौसम के साथ सूखा और अचानक बारिश जैसे हालात भी देखने में आए हैं। 2019 में ऑस्ट्रेलिया में सबसे ज्यादा गर्मी और सूखा मौसम रिकॉर्ड की गई। 2018 में सूखा भी पड़ा, जो 2019 में भी कायम रहा। इस वजह से जंगलों में आग आसानी से लगी। इन सबकी भविष्यवाणी 2008 में ही कर दी गई थी। उसी समय ये अनुमान लगाया गया था कि 2020 के आसपास जंगलों में भीषण आग लग सकती है। लेकिन क्लाइमेट चेंज चेतावनी पर कोई तवज्जो नहीं दी गई।


Tanuja

Related News