कैंसर रोगियों के लिए उम्मीद की एक किरण

punjabkesari.in Tuesday, Oct 19, 2021 - 03:28 PM (IST)

विश्वव्यापी कोरोना महामारी ने लोगों की आयुर्वेद में रुचि बढ़ा दी है। लोगों ने अब बीमारियों से निपटने के लिए इसके प्रयोग पर ध्यान देना शुरू कर दिया है। सेहत के मोर्चे पर हर व्यक्ति की प्राथमिकता बिना किसी दुष्प्रभाव के प्राकृतिक रूप से ठीक होने की है। यहां यह समझना जरूरी है कि हमारे शरीर में ही वह सब है, जिन पर सभी तरह की उपचार पद्धतियां निर्भर करती हैं। दरअसल, सब कुछ हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति पर निर्भर करता है, जिसे विज्ञान की भाषा में इम्युनिटी कहते हैं। इस इम्युनिटी के इर्द-गिर्द ही उपचार की सभी पद्धतियां केंद्रित हैं। यदि शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति मजबूत हो तो व्यक्ति बीमारियों से स्वयं ही लड़ने और जीतने में समर्थ होता है। जाने-माने वैज्ञानिक व आविष्कारक मुनीर खान ने इस तथ्य को केंद्र पर रखते हुए लंबा शोध किया है।

यह सर्वविदित है कि हर आविष्कार के पीछे एक उद्देश्य होता है। मुनीर खान ने इस मिशन के साथ शोध कार्य प्रारंभ किया कि मानव जाति को बीमारियों और इससे होने वाले कष्टों से मुक्त करना है। इस मिशन को पूरा करने के लिए उन्होंने जुनून के साथ काम किया और 25 साल पहले बॉडीरिवाइवल के रूप में इसका नतीजा सबके सामने आया। यह एक लिक्विड सस्पेंशन फॉर्मूला है, जो इम्यूनोथेरेपी और सेल रीजेनरेशन पर आधारित है। बॉडीरिवाइवल एक क्यूरेटफॉर्मूला है, जो आयुर्वेद के अथाह ज्ञान के साथ-साथ इम्यूनोथेरेपी और सेल पुनर्जनन के सिद्धांत पर आधारित है। इसका उद्देश्य कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों से लड़ने के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को मजबूत करना है।

बॉडीरिवाइवल का आविष्कार करने के बाद मुनीर खान ने किडनी, हृदय, मधुमेह और विशेष रूप से कैंसर जैसी पुरानी बीमारियों के रोगियों को ठीक करने के लिए अपना मिशन शुरू किया। पिछले 25 साल में बॉडीरिवाइवल ने आश्चर्यजनक परिणाम दिए हैं। यह उत्सर्जन के माध्यम से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है, स्वस्थ ऊतकों और कोशिकाओं के पुनर्जनन को बढ़ावा देता है, शरीर से विषहरण, रक्त शोधन और रोगग्रस्त कोशिकाओं की मरम्मत करता है। पश्चिम बंगाल सरकार के पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट में बॉडीरिवाइवलका चिकित्सकीय परीक्षण किया गया है। यहां मानकीकृत भारतीय हर्बलफॉर्मूलेशन की इम्यूनोपोटेंशिएशन क्रिया से शरीर के पुनरुद्धार का सफलतापूर्वक मूल्यांकन किया गया। मानव प्लेटलेट एकत्रीकरण और चूहों में मायोकार्डियलइस्किमिया पर बॉडीरिवाइवल के प्रभावों को मेडिकलप्रोटोकॉल के मुताबिक जांचा गया, जिसमें यह खरा उतरा। शरीर के पुनरुत्थान की सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि इसके माध्यम से कैंसर जैसी बीमारी का भी इलाज किया जा सकता है। बॉडीरिवाइवल पिछले 25 साल से लोगों को जीवन एक नयी उम्मीद दे रहा है। इससे अब तक एक लाख से अधिक कैंसर पीड़ित लोगों का उपचार किया जा चुका है।

कीमोथेरेपी के साइडइफेक्ट को दूर करने में भी बॉडीरिवाइवल मददगार है। इसमें आयुर्वेद की अच्छाई और इम्यूनोथेरेपी की प्रभावशीलता है। हम सभी आयुर्वेद से परिचित हैं। इसे दुनिया का सबसे पुराना चिकित्सा विज्ञान माना जाता है। आयुर्वेद का अर्थ है- जीवन का विज्ञान। यदि हम इम्यूनोथेरेपी की बात करें तो यह एक प्रकार की उपचार पद्धति है, जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्राकृतिक रूप से बढाती है। यदि कैंसर की बात करें तो इम्यूनोथेरेपी शरीर में कहीं भी कैंसर कोशिकाओं को पहचानने, लक्षित करने और समाप्त करने का काम करती है। इस प्रक्रिया में स्वस्थ कोशिकाओं को कोई नुकसान नहीं होता है और कैंसर से ग्रस्त कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं। बॉडीरिवाइवल बीमारी के उपचार के अलावा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाती है, जिससे शरीर अन्य किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए तैयार हो जाता है।

चारों ओर उनके मेहनत की सराहना हो रही है। मुनीर खान को छठा भारत रत्न बीआर अंबेडकर पुरस्कार, अखिल भारतीय हकीम अजमल खान पुरस्कार, आज तक पुरस्कार जैसे बड़े सम्मान मिल चुके हैं। खान को दक्षिण कोरिया के केसी अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय ने डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की है। उन्हें देवेंद्र फडणवीस ने भी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहते हुए आयुर्वेद में आविष्कार के लिए सम्मानित किया। यह श्री मुनीर खान की प्रतिभा और मानव कल्याण के लिए उनकी ओर से की जा रही सेवा का सम्मान है। न जाने कितने लोगों को उन्होंने नया जीवन दिया है। न जाने के कितने लोगों के लिए वे उम्मीद की आखिरी किरण हैं।- गरिमा चतुर्वेदी

अधिक जानकारी के लिए हमारी साइट देखें- www.bodyrevival.in
हम आपसे जुड़ना पंसद करेंगे
हमे -18003139229 पर कॉल करें


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News