हरियाणा में इस साल सडक़ हादसों में 20 प्रतिशत की कमी

punjabkesari.in Monday, Oct 26, 2020 - 07:54 PM (IST)

चंडीगढ़, (पांडेय): यातायात नियमों की सही पालना होने से अब प्रदेश की सडक़ों पर सफर भी निरंतर सुरक्षित हो रहा है। हरियाणा पुलिस द्वारा दुर्घटनाओं पर रोक लगाने के लिए किए जा रहे प्रयासों से सडक़ हादसों में जबरदस्त कमी आई है। पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने बताया कि गत वर्ष 2019 की तुलना में इस साल 30 सितंबर तक सडक़ दुर्घटनाओं, मरने वालों की संख्या तथा घायल लोगों की संख्या में क्रमश: 20.44 प्रतिशत, 19.04 प्रतिशत और 24.03 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक सडक़ व यातायात सुरक्षा के लिए सख्त इंतजामों की वजह से 1 जनवरी से 30 सितंबर, 2020 के बीच 6476 सडक़ हादसे हुए, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि में यह आंकड़ा 8140 था। इसी प्रकार, सडक हादसों में मरने वालों की संख्या भी 3744 से कम होकर 713 की गिरावट के साथ 3031 रही। इस साल के प्रथम 9 माह में सडक़ हादसों में घायलों की संख्या में भी 1677 मामलों की भारी कमी आई। 2019 में घायल हुए 6976 व्यक्यिों की तुलना में इस साल सितंबर तक 5299 लोग सडक हादसों में घायल हुए।

 


लॉकडाउन की छूट के बाद भी हादसों में कमी 
कोरोना के बाद केंद्र सरकार द्वारा अनलॉक-4 की गाइडलाइन आने के बाद से सितंबर माह में भी प्रदेश में सडक़ हादसों में पिछले वर्ष के मुकाबले 5.23 फीसदी की कमी आई है। सितंबर 2020 में सडक़ हादसे घटकर 814 रह गए, जबकि 2019 में यह आंकड़ा 859 था। जहां सितंबर 2019 में प्रतिदिन 25 लोग सडक़ हादसों में घायल हुए, वहीं 2020 में यह संख्या 20.47 प्रतिशत की गिरावट के साथ घटकर 20 तक सिमट गई। यादव ने कहा कि सितंबर के साथ-साथ 2020 के प्रथम 9 माह के तुलनात्मक डाटा विश्लेषण से जाहिर होता है कि हरियाणा पुलिस सडक़ एवं यातायात सुरक्षा के मामले में निरंतर तरक्की की राह पर अग्रसर है। हम सडक़ दुर्घटनाओं को कम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और इसके लिए सडक़ दुर्घटनाओं की वैज्ञानिक जांच, रोकने के ठोस उपाय, गहन जागरूकता अभियान और बेहतर सडक़ सुरक्षा प्रबंधन सहित संभव कदम उठाए जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त, हमारी फील्ड इकाइयां भी यातायात नियमों के उल्लंघनकत्र्ताओं पर सख्ती कर रही हैं। डी.जी.पी. ने आमजन से आग्रह करते हुए कहा कि वे यातायात नियमों का पालन करते हुए इस दिशा में दूसरों को भी जागरूक कर पुलिस का सहयोग करें।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Vikash thakur

Related News

Recommended News