ऐलनाबाद उपचुनाव: अभय चौटाला का दावा... 30 खापों का उनके पास समर्थन

10/25/2021 4:05:18 PM

चंडीगढ़, 25 अक्तूबर(अर्चना सेठी)इनेलो के प्रधान महासचिव व ऐलनाबाद उपचुनाव में इनेलो प्रत्याशी अभय सिंह चौटाला ने सोमवार को सिरसा के गांव अरनियांवाली, रंधावा, दड़बा, रुपाणा, निर्बाण, ऐलनाबाद, पोहडक़ां, माधोसिंघाना, बरुवाली, गुडियाखेड़ा, ढूकड़ा, बकरियांवाली आदि अनेक गांवों में जनसंपर्क अभियान चलाकर ग्रामीणों से अपने पक्ष में मतदान करने का आग्रह किया। इस दौरान गांव रंधावा, नीमला, अरनियांवाली व दड़बाकलां से सैकड़ों लोग अन्य राजनीतिक दलों को छोडक़र अभय चौटाला के नेतृत्व में इनेलो में शामिल हुए। और वही अरनियावाली से खोड परिवार व ब्रीज लाल सुथार इनेलो में शामिल हुए वही रंधावा से भागाराम, सुरेन्द्र, सुरेश, हरबंश, मंगलू राम, श्रवन, राजेश ओर बीरबल इनेलो में शामिल हुए ।

 


ग्रामीणों को संबोधित करते हुए इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि ज्यों ज्यों चुनावों की तारीख नजदीक आ रही है त्यों त्यों लोगों में इनेलो के प्रति रुझान ज्यादा बढ़ रहा है और वे इनेलो की कल्याणकारी नीतियों से प्रभावित होकर पार्टी में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज भाजपा और कांग्रेस प्रत्याशियों के बीच इस बात की होड़ लगी हुई है कि कौन अपनी जमानत बचाएगा? उन्होंने कहा कि आगामी 2 नवंबर को ऐलनाबाद के मतदाता उन्हें रिकॉर्ड मतों से विजयी बनाएंगे और उसी दिन भाजपा जजपा और कांग्रेस प्रत्याशियों का वहम भी निकल जाएगा क्योंकि आज भी दोनों प्रत्याशियों को गांवों में नहीं घुसने दिया जा रहा।

 


इनेलो नेता ने कहा कि जो लोग उन पर इस्तीफा देने के नाम पर उंगली उठा रहे हैं, उन्हें इस बात की जानकारी नहीं कि पूरे देशभर में करीब 5200 जनप्रतिनिधियों में केवल उन्हें छोडक़र कोई भी राजनेता ऐसा नहीं जिन्होंने किसानों के हित में अपने पद से त्यागपत्र दिया हो। उन्होंने कहा कि उनमें चौधरी देवी लाल का रक्त है जिन्होंने प्रधानमंत्री जैसे गरिमामयी पद का भी त्याग दिया था। उन्होंने कहा कि ऐलनाबाद के मतदाताओं का प्यार और आशीर्वाद उनके साथ है और उन्हें पूरा भरोसा है कि वे उन्हें रिकॉर्ड मतों से विजयी बनाकर पुन: हरियाणा विधानसभा में भेजेंगे ताकि वे पुन: ऐलनाबाद की जनता के हकों व किसानों के अधिकारों की बातों को प्रमुखता से उठा सकें।


इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि आज हरियाणा की करीब 30 से ज्यादा खापों ने भी उन्हें पूरा समर्थन दिया है और वे भी इनेलो की नीतियों से प्रभावित हैं क्योंकि इनेलो पहले ही दिन से तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए किसानों के साथ संघर्षरत है। उन्होंने कहा कि ऐलनाबाद उपचुनाव का असर किसान आंदोलन पर पड़ेगा और वह उनकी जीत के साथ ही पहले से भी कहीं ज्यादा मजबूती से केंद्र सरकार को इसे वापिस लेने के लिए बाध्य होना पड़ेगा। तीन कृषि कानूनों को जबरन किसानों पर थोंपने के इरादे का किसानों में खासा रोष है और इसका खमियाजा भविष्य में भी भाजपा को भुगतना पड़ेगा। इस मौके पर उनके साथ हलकाध्यक्ष अभय सिंह खोड़, विनोद बेनीवाल, धर्मवीर नैन, रमन मेहता, हरपाल ढुकड़ा, दिनेश बेनीवाल ओर अरविन्द शाश्त्री मौजूद थे ।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Archna Sethi

Related News

Recommended News