साइबर सक्षम पुस्तक बचाएगी महिलाओं व बच्चों को साइबर अपराधों से

punjabkesari.in Tuesday, Dec 07, 2021 - 12:46 PM (IST)

चंडीगढ़, (अर्चना सेठी) साइबर सुरक्षा के प्रति महिलाओं व बच्चों को जागरूक करने के लिए हरियाणा राज्य महिला आयोग ने एक पुस्तक को स्वरूप दिया है। हिंदी और अंग्रेजी भाषा में लिखी गई इस पुस्तक में साइबर अपराध से संबंधित  मामलों सेक्सटिंग, साइबर बुलिंग, ऑनलाइन नौकरी धोखाधड़ी, साइबर स्टॉकिंग, साइबर सेक्सटॉर्शन, नकली वेबसाइटों के माध्यम से वैवाहिक धोखाधड़ी, ए.टी.एम धोखाधड़ी जैसे मामलों से बचाव के तरीके व नियम बताए गए हैं। आयोग द्वारा अक्टूबर (2021) के पूरे महीने चले अभियान के दौरान साइबर अपराधों से बचाव के जिन नियमों की जानकारी दी गई थी, उन सारे नियमों व तरीकों को पुस्तक में विस्तार से लिखा गया है। द्विभाषी पुस्तिका का विमोचन व लोकार्पण आज छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमई नायक और हिमाचल प्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डेजी  ठाकुर के कर कमलों द्वारा किया गया है।

हरियाणा राज्य महिला आयोग की कार्यकारी अध्यक्ष, प्रीति भारद्वाज दलाल का कहना है कि आज साइबर अपराधों की सं या में लगातार वृद्धि हो रही है। इंटरनेट के माध्यम से महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध की उभरती श्रेणी यानी साइबर अपराध और सुरक्षा पर, इस पुस्तिका को प्रस्तुत करते हुए आयोग को बहुत खुशी हो रही है।  जब इंटरनेट का विकास हुआ, तो इंटरनेट के संस्थापकों को शायद ही कोई आभास  था कि इंटरनेट खुद को एक व्यापक क्रांति में बदल सकता है, जिसका आपराधिक गतिविधियों के लिए दुरुपयोग किया जा सकता है और जिसके लिए कानूनों, नियमों और विनियमों की आवश्यकता होगी। हरियाणा राज्य महिला आयोग विशेष रूप से महिलाओं और लड़कियों को साइबर स्पेस के अपने हिस्से की रक्षा करने में अपनी भूमिका निभाने के लिए प्रोत्साहित करता है और लगातार काम कर रहा है, पुस्तिका में साइबर अपराध के पीडि़तों की त्वरित समझ और कार्यों के लिए अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न भी शामिल है।

 

भविष्य में भी आयोग साइबर अपराधों के खिलाफ अपने अभियान को जारी रखेगा। जिसमें एसएमएस और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब और शॉर्ट रील के माध्यम से महिलाओं और बच्चों को ऑनलाइन धोखाधड़ी, साइबर अपराध और अन्य फर्जी प्रस्तावों के खिलाफ शिक्षित और सतर्क किया जा सके। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमई नायक ने कहा कि हमारी प्राथमिकता साइबर अपराधों की रोकथाम, खोज, जाँच और अभियोजन के लिए एक प्रभावी ढांचा है, जिसमे विशेष रूप से बच्चों, महिलाओं को साइबर सुरक्षा, साइबर साक्षरता और साइबर स्वच्छता प्रदान करना है । हिमाचल प्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डेजी  ठाकुर ने कहा कि वह  प्रत्येक व्यक्ति की साइबर सुरक्षा संबंधी जरूरतों की निरंतरता के साथ देखभाल करने  व सुरक्षा  प्रदान करने के लिए कटिबद्ध है।

हरियाणा, छत्तीसगढ़ व हिमाचल प्रदेश की अध्यक्षों  ने अपने-अपने राज्यों में हो रहे महिलाओं स बन्धी आपराधों पर चर्चा करते हुए विचार-विमर्श किए । हरियाणा व हिमाचल राज्य महिला आयोग की अध्यक्षों ने यह भी निर्णय लिया कि हिमाचल में दर्ज हुए हरियाणा से स बंधित मामलों व हरियाणा में दर्ज हुए हिमाचल से स बंधित मामलों पर दिसंबर माह में कालका में एक सयुंक्त बेंच लगाई जाएगी, जिनमें इन मामलों का निपटान होगा ।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Archna Sethi

Related News

Recommended News