छात्रों में नौकरी पैदा करने वाली सोच की भी जरूरत: सिसोदिया

11/8/2019 11:19:26 AM

नई दिल्ली: उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने वीरवार को सर्वोदय कन्या विद्यालय गाजीपुर का दौरा किया। वह वहां एंटरप्रेन्योर इंटरेक्शन के तहत सफल उद्यमी और बच्चों के बीच बातचीत सत्र के लिए पहुंचे थे। छात्रों के साथ इंटरेक्टिव सत्र को उद्यमी शशांक कुमार ने संबोधित किया। वह स्व-निर्मित उद्यमी हैं, उन्होंने अपना करियर 800 रुपए मासिक वेतन के साथ शुरू किया था और हर महीने 1.5 लाख रुपए कमाने वाले सफल उद्यमी बने। उन्होंने लगभग 200 लोगों को सीधे रोजगार दिया है। 

Image result for छात्रों में नौकरी पैदा करने वाली सोच की भी जरूरत: सिसोदिया

अर्थव्यवस्था की वर्तमान स्थिति के बारे में सिसोदिया ने कहा कि हमें हमेशा सिखाया गया है कि दुनिया में तीन प्रकार के देश हैं- अविकसित, विकासशील और विकसित देश। पिछले कुछ दशकों से भारत एक विकासशील देश बना हुआ है। समस्या लोगों की मानसिकता और शिक्षा प्रणाली में है जो नौकरी चाहने वालों को देने पर केंद्रित है। एक डॉक्टर से पीएचडी धारक के लिए वकील से शुरू होने वाला हर कोई नौकरी की तलाश में है। इसे बदलने की जरूरत है, हमारे छात्रों में नौकरी पैदा करने वाली मानसिकता की भी जरूरत है। 

हमारे देश के सर्वश्रेष्ठ दिमाग विदेशी कंपनियों के लिए काम करने और उनके लिए अत्यधिक उन्नत सॉफ्टवेयर विकसित करने के लिए विदेश जा रहे हैं। इन सफल कार्यक्रमों के पीछे दिमाग भारतीय है लेकिन यह लाभ विदेशी कंपनियों की जेब में चला जाता है। उनकी जीडीपी बढ़ती है और अर्थव्यवस्था मजबूत होती है।


Author

Riya bawa

Related News