10वीं परीक्षा में भाग लेने वाले छात्रों से नहीं ली जाएगी फीस, ओडिशा सरकार ने किया ऐलान

2021-01-14T14:37:52.547

एजुकेशन डेस्क: उड़ीसा में इस साल दसवीं की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों के लिए स्कूल परीक्षा शुल्क को माफ कर दिया है। सीएम नवीन पटनायक ने खुद इसकी घोषणा की है। ये निर्णय कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए लिया गया है, क्योंकि इस दौरान लोगों की आजीविका पर काफी फर्क पड़ा है। 

सीएम नवीन पटनायक ने कहा कि छात्रों के अधिक हित में, माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित वार्षिक परीक्षा की फीस माफ करने का निर्णय लिया। राज्य में इस साल 3 मई से मैट्रिक की परीक्षा शुरू होने वाली है। मुख्यमंत्री ने एक बयान में कहा, 'राज्य सरकार इस योजना पर 27 करोड़ खर्च करेगी और 6 लाख से अधिक छात्र लाभान्वित होंगे। परीक्षा में उपस्थित होने वाले प्रत्येक उम्मीदवार को फॉर्म भरने के लिए 420 का भुगतान करना था।'

पटनायक ने कहा कि शिक्षा क्षेत्र महामारी से सबसे ज्यादा पीड़ित है क्योंकि छात्र नौ महीने तक कक्षाओं में नहीं जा सकते हैं जिससे उनकी पढ़ाई प्रभावित हुई है। पटनायक ने कहा, किसी भी छात्र को वित्तीय बाधाओं के कारण कक्षा 10 वीं की वार्षिक बोर्ड परीक्षा में बैठने का अवसर नहीं दिया जाएगा। राज्य सरकार ने ओडिशा में नए COVID-19 मामलों की रिपोर्ट में गिरावट को ध्यान में रखते हुए, मानक X और XII के अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए 8 जनवरी से स्कूलों को फिर से खोल दिया है। सत्तारूढ़ BJD के छात्रों के विंग के प्रदेश अध्यक्ष देबी रंजन त्रिपाठी, पहले दिन में ने परीक्षा शुल्क माफ करने पर विचार करने के लिए मुख्यमंत्री से अनुरोध किया था।

इससे पहले, ओडिशा सरकार ने राज्य में NEET, JEE परीक्षा में बैठने वाले छात्रों के लिए मुफ्त परिवहन की व्यवस्था की थी। सरकार ने छात्रों को घरों से लेकर परीक्षा केंद्रों पर मुफ्त व डिस्टेंसिंग नियमों का पालने करते हुए बसों को प्रोवाइिड किया था। इसके साथ ही पूर्वी तट रेलवे से  NEET के उम्मीदवारों के लिए विशेष ट्रेन चलाने की अपील की गई थी।


Author

rajesh kumar

Recommended News