DUTA  Protest: जारी रहेगी डीयू शिक्षकों की हड़ताल

2019-12-07T10:01:48.82

नई दिल्ली: दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षकों की अनिश्चितकालीनी हड़ताल को देखते हुए एमएचआरडी द्वारा तदर्थ शिक्षकों के लिए फैसला लिया गया कि जब तक स्थायी नियुक्तियां डीयू के कॉलेजों में नहीं होती हैं। तब तक अस्थायी शिक्षकों, अनुबंध शिक्षकों, अतिथि शिक्षकों के साथ तदर्थ शिक्षकों की भी नियुक्यिां की जाएं। मगर दिल्ली विश्वविद्यालय टीचर्स एसोसिएशन (डूटा) ने तदर्थ शिक्षकों की बहाली व अन्य मांगों के समर्थन में हड़ताल जारी रखने का निर्णय लिया है। वहीं विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से रजिस्ट्रार ने मेल जारी कर शिक्षकों से हड़ताल वापस लेने और शिक्षण कार्य शुरू करने की अपील की है। 

Image result for DU Teachers Protest Outside VC Office Over Appointment of Guests Teachers on Permanent Posts

डूटा ने बुधवार से हड़ताल का आव्हान किया गया था। शुक्रवार के दिन भी हड़ताल जारी रही। शुक्रवार को सुबह के समय जो भी शिक्षक अपनी मांगों के विरोध में कुलपति के कार्यालय पर मौजूद थे। उन सभी को पुलिस ने बाहर कर दिया। इसकी हम निंदा करते हैं। वीरवार को डॅटा प्रतिनिधियों ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) के उच्च शिक्षण संस्थानों के सचिव आर.सुब्रमण्यम से मुलाकात की थी। इसके बाद एमएचआरडी की तरफ से तदर्थ शिक्षकों के लिए फैसला लिया गया कि जब तक स्थायी नियुक्तियां डीयू के कॉलेजों में नहीं होती हैं। 

तब तक अस्थायी शिक्षकों, अनुबंध शिक्षकों, अतिथि शिक्षकों के साथ तदर्थ शिक्षकों की भी नियुक्यिां की जाएं और 28 अगस्त को डीयू प्रशासन द्वारा जो पत्र अतिथि शिक्षकों की नियुक्तियों के लिए जारी किया गया था। डूटा के उपाध्यक्ष आलोक रंजन पांडेय ने कहा कि शुक्रवार को डूटा के कार्याकारी सदस्यों की बैठक हुई।


Author

Riya bawa

Related News