Success Story: बड़ी दिलचस्प है एक डॉक्टर की IAS अफसर बनने की कहानी

2020-01-30T16:24:32.873

नई दिल्ली: अमीरी गरीबी नहीं बल्कि आपका जज्बा, लगन तय करती है आपकी सफलता का पैमाना। जीवन में कुछ करना चाहते हैं तो उसके लिए बरसों की मेहनत, दिनरात जागने की तपस्या और हर पल संघर्ष बहुत जरुरी है। निधि पटेल की कहानी मुश्किलों से जूझते नौजवानों के लिए एक प्रेरणा है। आज हम आपको निधि पटेल के बारे में बताने जा रहे हैं जो पेशे से डॉक्टर हैं। उन्होंने 2018 में यूपीएससी पास की थी सबसे खास बात ये है उन्होंने इस परीक्षा की तैयारी 9 महीने में की। आइए जानते हैं उनकी सफलता का पैमाना-

Image may contain: 1 person, smiling

पेशे से है डॉक्टर
निधि महिला और स्त्री रोग विशेषज्ञ थीं और लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में बतौर सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर कार्यरत थीं। वह अपने फील्ड में अच्छा काम कर रही थीं, जिसके बाद उन्हें महसूस हुआ कि यूपीएससी की परीक्षा देनी चाहिए। फिर उन्होंने परीक्षा की तैयारी साल 2016 में शुरू कर दी थी। 9 महीने में परीक्षा की तैयारी कर उन्होंने 364वीं रैंक हासिल की।

PunjabKesari

एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया "मैंने यूपीएससी परीक्षा देने के बारे में कभी नहीं सोचा था लेकिन ये तय था अगर मैं यूपीएससी परीक्षा देती हूं तो इस परीक्षा को एक ही साल में पास करना होगा, क्योंकि मेडिकल फील्ड से हटकर एक डॉक्टर होने के नाते ज्यादा समय देना मुमकिन नहीं था। ऐसे में परीक्षा की तैयारी इस माइंडसेट से की थी कि ये आखिरी प्रयास है."निधि ने बताया - "एक डॉक्टर के नाते आप इतना कुछ नहीं कर पाते. बस अस्पताल तक ही सीमित रहते हैं, इस वजह से मैंने यूपीएससी परीक्षा देने का फैसला किया था.

ऐसे करें परीक्षा की तैयारी 

PunjabKesari

-परीक्षा के लिए सबसे जरूरी है बेसिक को क्लियर करना, साथ ही न्यूज से खुद को अपडेट रखना भी जरूरी है।
-प्रीलिम्स के लिए ज्यादा समय देने की जरूरत नहीं है, कम समय में अच्छी तैयारी करें। इसी के साथ मेंस परीक्षा की तैयारी साथ में करते रहे, वह महत्वपूर्ण परीक्षा है।

Image result for upsc exam punjab kesari

टेंशन लेकर न पढ़ें
निधि ने बताया प्रीलिम्स के लिए ज्यादा टेंशन न लें, अगर आपका बेसिक क्लियर है तो वह आसानी से हो जाता है। मेंस परीक्षा के लिए 2 या ढाई महीने मिलते हैं, ऐसे में इस परीक्षा की तैयारी पहले से ही करनी चाहिए। 

Image result for nidhi-patel upsc success STORY

परीक्षा से जुड़ी किताबे पढ़ें
प्रीलिम्स परीक्षा होने के बाद निधि ने अपने कमरे से किताबों की संख्या कम कर दी थी.क्योंकि कमरे में किताबें रखी होने से सब कुछ पढ़ने का मन करता था। 

टाइम मैनेजमेंट है जरुरी
डॉ निधि के अनुसार इस परीक्षा को क्रैक करने का बेहद जरूरी मूलमंत्र है टाइम मैनेजमेंट को समझना। इसके साथ ही तैयारी के दौरान अपने आस- पास पॉजिटिव लोगों को रखें।


Author

Riya bawa

Related News