Delhi University 2019: डीयू में एसी बैठक के दौरान पाठ्यक्रमों पर हंगामा बरकरार

7/18/2019 10:34:03 AM

नई दिल्ली: दिल्ली विश्वविद्यालय स्नातक पाठ्यक्रमों में अंग्रेजी, इतिहास, राजनीतिक शास्त्र और नागरिक शास्त्र के पाठ्यक्रमों में आपत्तिजनक पाठ्य सामग्री के विरोध में मंगलवार को डीयू में एसी बैठक के दौरान खूब हंगामा हुआ था। एसी सदस्यों ने विरोध जताया था तो एबीवीपी कार्यकर्ता विरोध में बैठक स्थल पर पहुंच हंगामा किया था। बैठक में विभागों को पाठ्यक्रम वापस भेजे जाने के बावजूद पाठ्यक्रम को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। 

एक तरफ जहां वामपंथी संगठनों ने बुधवार को एबीवीपी के खिलाफ प्रदर्शन किया। वहीं एबीवीपी ने इसे छात्रों के ब्रेनवाश और लोकतंत्र को दबाने की साजिश बताया। एसएफआई दिल्ली के उपाध्यक्ष सुमित कटारिया ने कहा कि पाठ्यक्रमों में सांप्रदायिक और जातिवादी साहित्य को बढ़ावा नहीं दिया जाना चाहिए। हम इस तरह के प्रयास को सफल नहीं होने देंगे। 

Image result for डीयू में एसी बैठक  पाठ्यक्रमों पर हंगामा बरकरार

वहीं एबीवीपी प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा कि युवाओं का वामपंथियों द्वारा ब्रेनवाश करने के प्रयासों को हम सफल नहीं होने देंगे। पिछले कुछ वर्षों में नक्सलियों के साथ जिस तरह डीयू के कुछ प्रोफेसरों के संबंध उजागर हुए हैं। आर्ट फैकल्टी पर वामपंथी संगठनों ने प्रदर्शन करते हुए आरोप लगाया कि कुछ दक्षिणपंथी शिक्षक और एबीवीपी डीयू पाठ्यक्रम को भगवाकरण करने का प्रयास कर रहे हैं। एबीवीपी ने जिस प्रकार एसी की बैठक के दौरान परिसर में जिस प्रकार उग्र प्रदर्शन किया वह गलत है। वामपंथियों की हिंदू विरोधी मानसिकता हमें अपने सिलेबस में स्वीकार नहीं है। 

डीयू प्रशासन ने उठाए सख्त कदम
शैक्षणिक सत्र 2019-20 में नए छात्रों के साथ रैगिंग रोकने के लिए डीयू प्रशासन ने सख्त कदम उठाए है। नए सत्र को लेकर डीयू प्रशासन ने 12 जुलाई को डीयू के प्रोक्टोरियल बोर्ड ने दिल्ली पुलिस, डीटीसी और दिल्ली मेट्रो के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की थी जिसमें महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। डीयू के रजिस्ट्रार तरुण दास द्वारा दी जानकारी के अनुसार निर्णय लिया गया है कि रैगिंग को रोकने के लिए दो ज्वाइंट कंट्रोल रूम बनाए गए हैं जो 20 से 27 जुलाई तक कार्य करेंगे, इसमें एक नॉर्थ और दूसरा साउथ कैम्पस में है। 

नार्थ कैम्पस से 27667221 और साउथ कैम्पस नियंत्रण कक्ष से 24119832 से सम्पर्क किया जा सकेगा। इसके साथ ही छात्र सौ नंबर पर कॉल कर पुलिस को शिकायत दे सकते हैं। सभी कॉलेजों व विभागों को एंट्री रैगिंग कमेटी बनाने के निर्देश दिए गए है। कॉलेज, सेंटर व हॉस्टल में छात्रों की प्रवेश सख्त नियमों के तहत होगी। सभी कॉलेजों के बाहर पुलिस चौकी होगी ओर महिला कॉलेजों को विशेष सहायता दी जाएगी। रोकथाम या दंडात्मक उपाए के बारे में प्राचार्य कदम उठायेंगे, हालांकि राजनीतिक दलों की ओर से दीवार गंदा करने पर अगर जरूरी हुआ तब पुलिस सीधे कार्रवाई करेगी।


Author

Riya bawa