यहां मात्र 5 रुपए का प्रसाद चढ़ाने से मां करती हैं हर मनोकामना पूरी

punjabkesari.in Tuesday, Oct 04, 2022 - 04:23 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

नवरात्रि पर्व के दौरान हम आपको लगातार इससे जुड़ी तमाम खबरें व जानकारी आपको देते आ रहे हैं। इसी कड़ी में आखिरी नवरात्रि के अवसर पर हम आपको एक बार फिर बताने जा रहे हैं इससे जुड़ी खबर। दरअसल हम बताने जा रहे हैं ग्वालियर शहर के नई सड़क स्थित पहाड़ा वाली माता मंदिर पर विशेष पूजा-अर्चना का दौर चल रहा है। नवरात्रि में यहां भक्तों का तांता लगा हुआ है। दूर दूर से यहां भक्त माता के दर्शन करने पहुंच रहे हैं। शारदीय नवरात्रि में मां का हर दिन अलग-अलग श्रंगार किया जा रहा है और विभिन्न सांस्कृतिक व भजन संध्या कार्यक्रम भी आयोजित किए जा रहे है। बताया जाता है यहां रोज़ाना मंदिर में 4 बार आरती की जाती है। जिनमेम विशेष कर सुबह श्रृंगार आरती, शाम को संध्या आरती और फिर दूध भोग आरती की जाती है। भक्त यहां पूरे श्रद्धा भाव से मां की पूजा अर्चना में लगे हुए हैं।

PunjabKesari पहाड़ा वाली माता मंदिर, Shri Pahad Wali Mata Ka Mandir, Shri Pahad Wali Mata Temple, पहाड़ा वाली माता, पहाड़ा वाली माता ग्वालियर, Gwalior Shri Pahad Wali Mata, Shardiya Navratri, Shardiya Navratri 2022, Navratri, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Hindu teerth Sthal, Dharm, Punjab Kesari

बात करें मंदिर के इतिहास की तो यह मंदिर 400 साल पुराना है जहां नवदुर्गा में पूजा के लिए स्थानीय पुजारी नहीं बल्कि डीडवाना नागौर राजस्थान से पुजारी आते हैं जो पूरे 9 दिन की पूजा अर्चना करवाते हैं। ये ऐतिहासिक पुजारियों के 7 परिवार हैं जो हर 1 साल में एक पुजारी का नंबर आता है। बता दें इस वर्ष गंगाधर शर्मा के परिवार द्वारा पूजा कराई जा रही है।

PunjabKesari पहाड़ा वाली माता मंदिर, Shri Pahad Wali Mata Ka Mandir, Shri Pahad Wali Mata Temple, पहाड़ा वाली माता, पहाड़ा वाली माता ग्वालियर, Gwalior Shri Pahad Wali Mata, Shardiya Navratri, Shardiya Navratri 2022, Navratri, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Hindu teerth Sthal, Dharm, Punjab Kesari

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें
PunjabKesari

मंदिर से जुड़ी पौराणिक किंवदंतियों की बात करें तो राजेश बित्थरीय बताते हैं कि प्राचीन समय में औरंगजेब ने जब आक्रमण किया था और हिंदू मंदिर तोड़ने का फरमान जारी किया था तब डीडवाना नागौर राजस्थान में स्थित माता के मंदिर से व्यापारियों द्वारा मूर्ति को खंडित होने से बचाने के लिए उसे वहां से उठाकर भागना पड़ा। इसके बाद वह ग्वालियर पहुंचेकर विश्राम करने के लिए रुके थे। जहां से आगे जाने के लिए उठे तो माता की मूर्ति लाख कोशिशों के बाबजूद भी नही उठा सके। जिसके चलते यहां मंदिर बनवाने का निर्णय लिया। बताते हैं उस समय यहां पर पहाड़ हुआ करते थे उस वजह से इनका नाम डीडवाना पहाड़ाय वाली माता पड़ा।

PunjabKesari पहाड़ा वाली माता मंदिर, Shri Pahad Wali Mata Ka Mandir, Shri Pahad Wali Mata Temple, पहाड़ा वाली माता, पहाड़ा वाली माता ग्वालियर, Gwalior Shri Pahad Wali Mata, Shardiya Navratri, Shardiya Navratri 2022, Navratri, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Hindu teerth Sthal, Dharm, Punjab Kesari

मंदिर से जुड़ी अन्य मान्यता के अनुसार यहां खोई हुई चीज़ की मां के दरबार में अर्जी लगाने और मात्र 5 रुपए का प्रसाद चढ़ाने से खोई हुई चीज निश्चित ही मिल जाती है। कई भक्त तो यहां 50 साल से लगातार दर्शन करने आ रहे हैं। यहां भक्तों द्वारा माता के दर्शन कर नारियल, चुनरी भेंट करके अपनी मनोकामनाओं को पूर्ण करने की अर्जी लगाते। खासतौर पर नवदुर्गा अष्टमी को यहां हवन करवाया जाता है और नवमी को विशाल भंडारे का आयोजन किया जाता है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News