Kalashtami 2022: आज करें ये चमत्कारी उपाय, बाबा भैरव के साथ बरसेगी शनि कृपा

punjabkesari.in Monday, Jun 20, 2022 - 07:42 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Masik Kalashtami june 2022: आज मासिक कालाष्टमी का शुभ दिन है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार इस दिन भगवान शिव के रुद्र स्वरूप काल भैरव के निमित्त पूजा और उपवास करने का विधान है। वैसे तो बाबा भैरव के 8 स्वरूप माने गए हैं लेकिन बटुक भैरव स्वरुप को सौम्य कहा जाता है। गृहस्थ व अन्य सभी साधारणजन को बाबा के इसी रुप की पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से जीवन के सभी कष्ट दूर होते हैं।

PunjabKesari Kalashtami

इस दिन बाबा काल भैरव के वाहन कुत्ते को खाना खिलाने की प्रथा है। मान्यता है कि कालाष्टमी के दिन भगवान भैरव को प्रसन्न करने के लिए काले कुत्ते को मीठी रोटी जरूर खिलानी चाहिए। यदि काला कुत्ता उपलब्ध न हो तो किसी भी कुत्ते को खिला कर यह उपाय कर सकते हैं। इस दिन कुत्तों की सेवा करना पुण्य का काम होता है। इस उपाय को करने से न सिर्फ भगवान भैरव बल्कि शनिदेव की भी कृपा बरसती है और हर काम बिना किसी बाधा के पूरा हो जाता है।

इसके अलावा कालाष्टमी के दिन भैरव देव की कृपा पाने के लिए किसी जरूरतमंद व्यक्ति या भिखारी को वस्त्र दान करें। इस उपाय को करने से आपको कार्यक्षेत्र में तरक्की में मिलेगी।

कालाष्टमी के दिन से लेकर 40 दिनों तक लगातार काल भैरव के दर्शन करें। इस उपाय को करने से भगवान भैरव प्रसन्न होंगे और आपकी मनोकामना को पूर्ण करेंगे। भैरव की पूजा के इस नियम को चालीसा कहते हैं।

मान्यता है कि कालाष्टमी के दिन काल भैरव की पूजा-अर्चना करने से व्यक्ति को सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है व शुभ फलों की प्राप्ति होती है।

PunjabKesari Kalashtami

काल भैरव की कृपा पाने के लिए कालाष्टमी के दिन 21 बिल्वपत्रों पर चंदन से 'ॐ नम: शिवाय' लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाएं। इस विधि से पूजन करने पर भगवान भैरव प्रसन्न होंगे और आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

काल भैरव की कृपा पाने के लिए आज यानी कालाष्टमी के दिन भगवान भैरव की प्रतिमा के आगे सरसों के तेल का दीपक जलाएं और सच्चे मन से श्री कालभैरवाष्टक का पाठ करें। इससे आपके जीवन की हर समस्या धीरे-धीरे दूर होने लगेगी।

किसी मंदिर में जाकर भगवान काल भैरव को नींबू की माला अर्पित करें। मान्यता है कि ऐसा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। 

PunjabKesari Kalashtami


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News