आपके भी हो रहे हैं अपने पति से बेशुमार झगड़े, 7 दिन में ऐसे कर सकते हैं Patch-Up

11/19/2019 2:27:16 PM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
पति-पत्नी के बीच नोंक-झोंक होना आम बात है। बल्कि कहा जाता है इस नोंक-झोंक से उनके बीच प्यार बढ़ता है। परंतु टेंश्न की बात तब आती है ये छोटी-मोटी नोंक-झोंक बड़े झगड़ों में बदल जाती है। जिसके कारण रिश्तों में धीरे-धीरे कड़वाहट आने लगती है। जो आज कल के समय में आम हो चुका है। इसकी मुख्य वजह है दंपत्ति का आपसी तालमेल। आपसी सहमती व आपसी तालमेल न होने के कारण आज कल बहुत से विवाहित जोड़ों का रिश्ता टूटने के मोड़ पर आकर खड़ा हो जाता है। ऐसे में दोनों जन यानि दंपत्ति अपने साथ-साथ एक दूसरे का जीवन खराब कर बैठते हैं।
PunjabKesari, Husband wife, पति, पत्नी
क्या आपके घर में माहौल कुछ ऐसा ही है तो आपको बता दें रिश्तों को खत्म करना कोई हल नहीं है बल्कि इन्हें कैसे सुलझाया जाए दंपत्ति को साथ बैठकर इस पर विचार करना चाहिए। और अगर ऐसा करने के बाद भी आपके बीच चल रहे लड़ाई झगड़े खत्म न हो तो आगे हमारे द्वारा बताया जाने वाला उपाय केवल 7 दिन तक कर लें। मान्यता है कि इस उपाय को लगातार करने से वैवाहिक जीवन में आ रही परेशानियां खत्म होती हैं और पति-पत्नी में पैदा हो रही दूरियां भी न बराबर हो जाती हैं।
PunjabKesari, Husband wife, पति, पत्नी
करें यह उपाय-
जिस घर में समस्त सुख-सुविधा होने के बाद भी पति-पत्नी के बीच छोटी-मोटी बातों पर कलह-क्लेश होता रहता है कहा जाता है ऐसे घर में दरिद्रा आने में देर नहीं लगती। वहीं जहां परिवार में प्रेम, एकता का वातावरण रहता है, वहां सुख, शांति और सम्पन्नता तेज़ी से बढ़े लगती है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर पति-पत्नी के बीच किसी भी बात को लेकर मतभेद चल रहा हो जिसकी वजह से दूरियां बढ़ती जी रही हों उन्हें लगातार 7 दिनों तक इस मंत्र का जप 108 बार जाप करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कुछ ही दिनों में इस मंत्र के प्रभाव से पति-पत्नी के बीच में प्रेम का वातावरण बनना शुरू हो जाता है।

रोज़ाना सूर्योदय से पहले स्नान करके लाल रंग के आसन पर बैठकर इस मंत्र का जप करें। बता दें जप से पूर्व अपने सामने काली माता की एक तस्वीर स्थापित करके पूजन करें एवं उनके समक्ष दो बत्ती वाला दीपक जलाएं।
PunjabKesari, काली माता, Devi kali
ॐ धं धिं धुम धुर्जते पत्नी वां वीं बूम वाग्धिश्वरि।।
क्रं क्रीं क्रूं कालिका देवी शं षीम शूं में शुभम कुरु।


Jyoti

Related News