Azadi ka amrit mahotsav: 1942 में 72 घंटे आजाद रहा था बालुरघाट

punjabkesari.in Monday, Aug 15, 2022 - 12:03 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Independence day 2022: यह तो सभी जानते हैं कि भारत 15 अगस्त, 1947 को अंग्रेजों की दास्ता से आजाद हुआ था, लेकिन बहुत कम लोग जानते होंगे कि पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर जिले का बालुरघाट इलाका 1942 में 3 दिन यानी 72 घंटे के लिए अंग्रेजी हुकूमत से आजाद रहा था। 

PunjabKesari Balurghat Town in West Bengal

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्स एप करें

भारत छोड़ो आंदोलन की आवाज पर वर्ष 1942 में बालुरघाट सहित संलग्न इलाके में स्वतंत्रता सेनानियों ने तत्कालीन प्रशासनिक कार्यालय भवन पर कब्जा करने के साथ-साथ ट्रेजरी लूट कर पूरे देश में हंगामा मचा दिया था।  

PunjabKesari Balurghat Town in West Bengal

1942 को 14 से 17 सितम्बर तक बालुरघाट स्वतंत्रता सेनानियों के कब्जे में था यानी ब्रिटिश शासन से मुक्त एक अंचल।

PunjabKesari Balurghat Town in West Bengal

बालुरघाट में बना स्मृति पट्ट आज भी इसका साक्षी है। 1942 के 14 सितम्बर को बालुरघाट के कांग्रेस नेता सरोज रंजन चटर्जी के नेतृत्व में करीब दस हजार लोगों ने बालुरघाट के दक्षिण के अंतिम भाग में (वर्तमान में बांग्लादेश से सटे ग्राम डांगी) से जुलूस निकाला। 

PunjabKesari Balurghat Town in West Bengal

लोगों के इस हुजूम ने इस दिन आजादी की मांग लेकर बालुरघाट में तत्कालीन एस.डी.ओ. ऑफिस का घेराव किया। वर्तमान में यह ऑफिस जिला प्रशासन परिसर है।  

PunjabKesari Balurghat Town in West Bengal

एस.डी.ओ. भवन पर कब्जा कर आजादी के योद्धाओं ने ब्रिटिश झंडे यूनियन जैक को उतारकर उसकी जगह पर तिरंगा फहरा कर बालुरघाट को आजाद घोषित कर दिया था। इसके बाद आक्रोशित योद्धाओं ने ट्रेजरी भवन में आग लगा दी थी। 

PunjabKesari Balurghat Town in West Bengal

आजादी के लिए यह युद्ध इतिहास में स्वर्ण अक्षरों से लिखा गया है। हालांकि, इसके 3 दिन बाद यानी 17 सितम्बर को ब्रिटिश फौज ने मौके पर पहुंचकर फिर से बालुरघाट पर कब्जा कर लिया था। 

PunjabKesari kundli   

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News