छत्तीसगढ़ में पशुओं की बलि रोकने के लिए पुलिस अधीक्षकों को पत्र

punjabkesari.in Monday, Sep 26, 2022 - 09:29 PM (IST)

रायपुर, 26 सितंबर (भाषा) छत्तीसगढ़ में पुलिस मुख्यालय ने राज्य के सभी पुलिस अधीक्षकों को पत्र लिखकर धार्मिक त्योहारों के दौरान पशुओं की बलि पर रोक लगाने के लिए जरूरी कार्रवाई करने को कहा है।

अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि पुलिस मुख्यालय ने राज्य के सभी जिलों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों, पुलिस अधीक्षकों और पुलिस अधीक्षक-रेल को भेजे गए पत्र में पेटा इंडिया की कार्यकर्ता डॉक्टर किरण आहूजा के एक जून 2022 के पत्र के संदर्भ में कहा है कि पत्र में धार्मिक त्योहारों के दौरान बलि के नाम पर पशुओं की अवैध हत्या पर रोक लगाने, शिकायतों पर तत्काल कार्यवाही और पशुओं की बलि के संबंध में पशु संरक्षण कानूनों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए उच्चतम न्यायालय की ओर से दिए गए समुचित कानून और दिशा-निर्देश का अनुपालन करने के लिए लिखा गया है।
उन्होंने बताया कि पुलिस अधीक्षकों को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि प्रति वर्ष हजारों पशुओं- जिनमें गाय, भैंस, बकरियां और ऊंट आदि शामिल हैं- की ईद-उल-अजहा, दशहरा और दुर्गा पूजा आदि त्योहारों के समय बलि दी जाती है। उन्होंने कहा कि बलि देने के लिए पशुओं को बड़ी संख्या में वाहनों में क्रूर तरीके से अवैध रूप से ले जाया जाता है, जिस पर नियमित रूप से समुचित कानूनी कार्यवाही किए जाने के लिए दिशा-निर्देश दिया गया है।
अधिकारियों ने बताया कि पुलिस अधीक्षकों से कहा गया है कि भारत सरकार के पशु कल्याण बोर्ड ने 25 जून 2021 को त्योहारों के पूर्व आवश्यक सावधानी बरतने, बलि और पशुओं का अवैध परिवहन रोकने तथा आरोपियों के हिंसक कृत्य पर कानूनी कार्रवाई किए जाने के लिए निर्देशित किया था।
उन्होंने बताया कि पुलिस अधीक्षकों से कहा गया है कि वे इस संबंध में अपने-अपने क्षेत्रों में दिए गए दिशा-निर्देश के अनुसार समय पर आवश्यक कार्रवाई करें तथा कार्यालय को अवगत कराएं।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News