पैट्रोल चोरी रोकने को अपनाया नया सिस्टम, मगर पंप पर लग रही वाहनों की कतारें

2021-02-23T22:34:12.727

चंडीगढ़,(राय) : चंडीगढ़ नगर निगम द्वारा रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन डिवाइस प्रणाली (आर.एफ.आई.डी.) की शुरूआत के बाद अपने वाहनों में ईंधन की खपत और अन्य कथित हेरफेर को रोकने के लिए निगम के वाहनों को ईंधन भरने के लिए कई घंटों तक इंतजार करना पड़ता है। इसने निगम के संचालन को और प्रभावित किया है, वहीं ईंधन भरने के लिए पैट्रोल पंपों और लाइनों में लगे वाहनों को ईंधन भरने के कारण निगम को वित्तीय नुकसान भी हुआ है।

 

निगम अपने विभिन्न विभागों के लगभग 460 वाहनों को पर्ची के माध्यम से रिफिल करता था और उसके बाद निगम की वित्तीय बाधाओं के कारण निगम के वाहनों के लिए गबन और ईंधन का कोटा तय करने की शिकायतें मिलने के बाद निगम इस प्रणाली से गुजरा। फरवरी से निगम ने आर.एफ.आई.डी. तकनीक पर आधारित प्रणाली को अनिवार्य बना दिया। निगम ने अपने पैट्रोल पंप से निगम के वाहनों को फिर से ईंधन भरने का निर्णय भी सैक्टर-51 में शुरू किया था, ताकि जहां निगम के उत्कर्ष से आय हो सके और निगम के वाहनों में ईंधन से अर्जित राजस्व भी हो। 

 


तेल टैंक के मुंह पर टैग लगाया है
आर.एफ.आई.डी. प्रौद्योगिकी के माध्यम से निगम के विभिन्न विभागों के सभी वाहनों में उपयोग किए जाने वाले तेल का एक पूरा ट्रैक रखने के लिए तेल टैंक के मुंह पर एक टैग चिपका दिया है लेकिन पिछले दो दिन में इस प्रणाली की शुरुआत के साथ मोटर चालकों को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। 


3 घंटे से लाइन में लगा हूं
मंगलवार को निगम के वाहनों को ईंधन भरने के लिए सैक्टर-51 के पैट्रोल पंप से सैक्टर-50 के पीछे तक एक लंबी लाइन थी और कई वाहन भी सड़क किनारे खड़े थे। मौके पर मौजूद ड्राइवरों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि यह यहां रोज की बात है। वह सुबह 7 बजे से यहां ईंधन भरवाने के लिए कतार में लगा था लेकिन अब तक (सुबह 10.15 बजे) उसकी बारी नहीं आई। उन्होंने कहा कि पैट्रोल पंप मशीनों में कई वाहनों के ईंधन टैंक पर चिपकाए गए टैग संलग्न करने में समस्या थी, जिसके कारण उनके वाहनों को ईंधन नहीं दिया जा रहा था और वे इंतजार कर रहे थे। जब उन्होंने आर.एफ.आई.डी. के बारे में कंपनी के एक कर्मचारी से बात करने की कोशिश की, तो उसने गलत व्यवहार किया और कोई जवाब नहीं दिया।


जल्द ही कमियों को ठीक करेंगे
नगर निगम के अतिरिक्त आयुक्त सतीश कुमार जैन ने बताया कि यह प्रणाली निगम द्वारा अपने वाहनों के ईंधन भरने के लिए पेश की गई है और इसे जल्द ही मजबूत किया जाएगा। इस संबंध में मेयर रविकांत शर्मा ने कहा कि निगम की वाहनों में तेल के कथित दुरुपयोग को मिटाने के लिए निगम द्वारा ये योजनाएं शुरू की गई हैं और आगे भी जारी रहेंगी। उन्होंने कहा कि इसमें जो भी कमियां हैं, उन्हें जल्द ही ठीक कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि आपातकालीन सेवा के वाहनों के चालकों को दिन के काम को पूरा करने के बाद शाम को अपने वाहनों को ईंधन भरने के लिए पहले ही निर्देशित कर दिया गया है ताकि वे सुबह समय पर अपनी ड्यूटी पर पहुंच सकें।


News Editor

ashwani

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News